3 सप्ताह में CM Shivraj की केंद्रीय नेतृत्व से तीसरी मुलाकात, क्या है सियासी मायने!

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (madhya pradesh) के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (chief minister shivraj singh chauhan) की लगातार दिल्ली यात्रा बड़ी फेरबदल की अटकलों को हवा दे रही है। शनिवार देर रात मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) से मुलाकात करने दिल्ली पहुंचे थे। लगातार दो दिन दिल्ली में केंद्रीय मंत्री अमित शाह से सीएम शिवराज (CM Shivraj) की मुलाकात हुई। ज्ञात हो कि पहला ऐसा मौका है, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पिछले दो दिनों में दूसरी बार दिल्ली पहुंचे हैं। हालांकि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस बैठक को सौजन्य भेंट बताते हुए सामान्य मुलाकात की बात कही है।

CM Shivraj 3 सप्ताह में तीसरी बार दौरे पर नई दिल्ली पहुंचे। सीएम शिवराज और गृह मंत्री अमित शाह की मुलाकात 45 मिनट तक चली। इसके बाद उन्होंने ट्वीट (tweet) करते हुए कहा कि उन्होंने गृहमंत्री अमित शाह से शिष्टाचार मुलाकात की। बता दें कि इससे पहले कल केंद्रीय मंत्री पहलाद पटेल (prahlad patel) ने अमित शाह से मुलाकात की थी। पटेल ने शाह से मुलाकात करने के बाद उमा भारती से भी मुलाकात की थी।

जिसके बाद प्रदेश कांग्रेस सहित अन्य विपक्षी पार्टी मध्य प्रदेश सरकार में बड़े बदलाव की तरफ इशारा कर रही है। हालांकि अभी तक इस बात की पुष्टि कर नहीं हुई है और माना जा रहा है कि मध्य प्रदेश में होने वाले चुनाव (Upcoming Election) के मद्देनजर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान केंद्रीय मंत्री से मिल रहे हैं।

Read More: केंद्रीय मंत्री सिंधिया ने जेल हादसे पर जताया दुःख, घायलों की हर संभव मदद का दिया भरोसा

बता दें कि मध्यप्रदेश में दमोह सीट (damoh seat) पर चुनाव हारने के बाद से केंद्रीय नेतृत्व की दखलअंदाजी मध्यप्रदेश में बढ़ गई है। जिसके बाद अब खंडवा उपचुनाव (khandwa by-election) से पहले सीएम शिवराज सहित अन्य दिग्गज नेताओं की केंद्रीय नेतृत्व से मुलाकात चुनाव में बीजेपी के रोल प्ले करने की तरफ इशारा कर रही है।

सीएम शिवराज की केंद्रीय मंत्रियों के साथ मुलाकात पर मध्य प्रदेश कांग्रेस मीडिया सेल के महासचिव केके मिश्रा (KK Mishra) ने बड़ा हमला किया है। दरअसल उन्होंने कहा कि ऐसा लगता है कि उत्तराखंड और कर्नाटक के बाद अब मध्य प्रदेश की बारी है। मध्य प्रदेश में पिछले कुछ समय से नेतृत्व बदलने के कयास लगाए जा रहे हैं। 19 जुलाई को पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह (digvijay Singh) ने ट्विटर पर यह कहकर तहलका मचा दिया था कि भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष VD शर्मा और केंद्रीय मंत्री पहलाद पटेल को मुख्यमंत्री पद के लिए 2 दावेदारों के रूप में देखा जा रहा है।। दिग्विजय सिंह ने कहा था कि चौहान के बाहर जाने का समय आ गया है।

Read More: पूर्व मंत्री गोविंद सिंह का बड़ा बयान–“मैं आज भी नेता प्रतिपक्ष की भूमिका निभा रहा हूँ”

वहीं राजनीतिक टिप्पणीकार दिनेश गुप्ता (dinesh gupta) का कहना है कि मध्यप्रदेश में उपचुनाव होने हैं। इससे पहले केंद्रीय नेतृत्व और शिवराज सिंह चौहान की मुलाकात BJP की रणनीतियों का भी हिस्सा हो सकते हैं। राजनीतिक टिप्पणीकार दिनेश गुप्ता ने कहा BJP आम तौर पर चुपचाप अपने आंतरिक बड़े कदम की योजना बनाती है और परिणाम अचानक से दिखाई देते हैं। इसका ताजा उदाहरण हम उत्तराखंड और कर्नाटक में देख चुके हैं। इसलिए चौहान के केंद्रीय मंत्री से मुलाकात को दूसरी तरफ से भी देखा जाना चाहिए।

वहीं सूत्रों की माने तो अमित शाह और Nadda के साथ सीएम शिवराज की बैठक लोकसभा, मध्य प्रदेश की 3 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव से संबंधित हो सकती है। इसके लिए सीएम शिवराज के नेतृत्व के साथ मुलाकात कर रणनीति बन रहे हैं। इस मामले में मध्य प्रदेश बीजेपी के प्रमुख प्रवक्ता दीपक विजयवर्गीय का कहना है कि विभिन्न राज्य के मुख्यमंत्री का केंद्रीय मंत्री से मिलना एक नियमित प्रक्रिया होती है कांग्रेसी राजनीति में अस्तित्व के संकट का सामना करें और राज्य के कल्याण के लिए आवश्यक सभी राजनीतिक और प्रशासनिक गतिविधियों पर प्रकाश डालने की कोशिश करती है। जिससे वह खुद की कमियों को छिपा सके।

ज्ञात हो कि चौहान पहली बारी 11 जुलाई को दो दिवसीय यात्रा पर दिल्ली पहुंचे थे और मध्यप्रदेश के नवनियुक्त मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया (jyotiraditya scindia) और वीरेंद्र खटीक (virendra khatik) के अलावा रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर से मुलाकात की थी। हालांकि दूसरी यात्रा के दौरान उन्होंने स्वास्थ्य मंत्री Mandaviya, खेल युवा और आईटी मंत्री अनुराग ठाकुर और तोमर से मुलाकात की। इस दौरान व्यक्तिगत कारणों से भी सीएम शिवराज बेटे कार्तिकेय के उच्च अध्ययन के लिए विदेश जाने की प्रक्रिया पूरी करने नई दिल्ली पहुंचे थे।