लापरवाही पर भड़के निगमायुक्त, 14 कर्मचारियों के वेतन काटने के निर्देश

निगम आयुक्त कोलसानी ने कहा कि घर घर जाकर बकाया करों की वसूली की जाए। वहीं राशि जमा न करने पर संपत्ति कुर्क करने के अलावा लोगों के नल कनेक्शन भी काटे जाए।

नगरीय निकाय चुनाव

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश में आए दिन लापरवाही (negligence) पर कार्रवाई की जा रही है। लगातार निरीक्षण के दौरान लापरवाह कर्मचारियों पर शिकंजा कसे जा रहे हैं। ऐसा ही एक वाकया राजधानी भोपाल (bhopal) में सामने आया है। जहाँ कर की वसूली का काम देखने निगमायुक्त केवीएस चौधरी कोलसानी (KVS Chaudhary Kolsani) वार्ड नंबर 47 पहुंचे। इस दौरान निगम आयुक्त कोलसानी ने पाया वार्ड प्रभारी सहित पूरा स्टाफ कार्यस्थल से गायब है। जिस पर नाराजगी जाहिर करते हुए निगमायुक्त (Commissioner) ने 14 कर्मचारियों का 1 दिन का वेतन काटने के निर्देश दिए हैं।

दरअसल राजधानी भोपाल के निगमायुक्त केवीएस चौधरी कोलसानी निगम के बकाया करों की वसूली और वर्तमान वित्तीय संपत्ति का निरीक्षण करने वार्ड नंबर 47 पहुंचे थे। इस दौरान वार्ड प्रभारी सहित पूरे स्टाफ गायब मिले। ऐसे में सभी कर्मचारियों के वेतन काटने के निर्देश देते हुए सहायक यंत्री जल कार्य की एक वार्षिक वेतन वृद्धि (Annual increment) रोकने के आदेश दिए हैं।

Read More: MP Corona: मंत्रालय तक पहुंची कोरोना की रफ्तार, एक साथ 15 की रिपोर्ट पॉजिटिव

निगम आयुक्त कोलसानी ने कहा कि लापरवाही बरतने वाले कर्मचारियों पर लगातार कार्रवाई की जा रही है। किसी भी स्थिति में कार्य अवधि में कर्मचारियों को कार्यस्थल से अनुपस्थित होने की छूट नहीं है। कर्मचारियों के वेतन काटने के निर्देश दिए गए हैं। इस दौरान जल कर्मचारी को अनुपस्थिति पर नाराजगी जताते हुए कोलसानी ने जॉन 6 (ZONE 6) के सहायक यंत्री जल कार्य गौरव परमार को फोन कर नाराजगी जाहिर की।

वहीं उनके एक वार्षिक वेतन वृद्धि को रोकने के निर्देश भी दिए हैं। इसके अलावा निगम आयुक्त कोलसानी ने कहा कि घर घर जाकर बकाया करों की वसूली की जाए। वहीं राशि जमा न करने पर संपत्ति कुर्क करने के अलावा लोगों के नल कनेक्शन भी काटे जाए।