Gwalior- सरकारी मशीनरी फेल, शिवराज के मंत्री उतरेंगे सड़क पर, जनता से मांगा साथ

ऊर्जा मंत्री ने कहा कि कौन शख्सियत है जो अतिक्रमणकर्ता को शेल्टर देते हैं। किसी को प्रद्युम्न किसी को एक्स किसी को वाय बचाता है। इसमें अधिकारी भी होते हैं और मीडिया के जिम्मेदार लोग भी होते हैं।

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। शहर को साफ सुथरा रखने, प्रदूषण मुक्त रखने, बिजली बचाने और पानी बचाने के लिए जनता को प्रेरित कर पाने में फेल साबित हुई सरकारी मशीनरी के बाद अब शिवराज सरकार (Shivraj Government) के ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर (Pradyuman Singh Tomar) सड़क पर उतरेंगे। उन्होंने घोषणा की है कि वे 29 और 30 जनवरी को अपनी विधानसभा में पद यात्रा करेंगे। उन्होंने इसके लिए जनता का साथ मांगा है।

खुद को जनता का सेवक कहने वाले और सड़क, नाले और शौचालय साफ कर कई बार इसे प्रमाणित करने वाले प्रदेश के ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर (Pradyuman Singh Tomar) अब दो दिन पद यात्रा पर निकलने वाले हैं । 26 जनवरी को मीडिया के सामने उन्होंने इसका ऐलान किया और आज पत्रकार वार्ता कर मीडिया और जनता का इसमें साथ मांगा। उन्होंने कहा कि यदि हम और आप तय कर लेंगे तो ग्वालियर में परिवर्तन संभव है। ये शहर हमारा है इसे कैसे नंबर एक बनाना है ये हमें और आपको ही तय करना है।

प्रयासों के बाद भी स्वच्छता में नंबर एक नहीं आ पा रहा ग्वालियर

स्वच्छ सर्वेक्षण में हमेशा इंदौर (Indore) और भोपाल (Bhopal) से पीछे रहने वाले ग्वालियर को नंबर एक पर लाने के लिए ग्वालियर जिला प्रशासन (Gwalior District Administration) और ग्वालियर नगर निगम (Gwalior Municipal Corporation) प्रशासन ने बहुत प्रयास किये लेकिन पिछले साल के स्वच्छता सर्वेक्षण में ग्वालियर (Gwalior) 13 स्थान पर आ पाया हालांकि ग्वालियर में इस सूची में 46 पायदान की छलांग लगाई लेकिन इंदौर (Indore) को नंबर एक से नहीं हटा पाया। अब ऊर्जा मंत्री ने शहर को साफ और स्वच्छ रखने के लिए लोगों को प्रेरित करने का बीड़ा उठाया है।

स्वच्छता, प्रदूषण, पानी और बिजली बचाने के लिए करेंगे प्रेरित

ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर (Pradyuman Singh Tomar) ने पत्रकार वार्ता लेकर आज 29 और 30 जनवरी की प्रस्तावित पद यात्रा के बारे में जानकारी दी। ऊर्जा मंत्री ने कहा कि ये शहर स्वच्छ रहे इसलिए अपने इस सेवक को जिम्मेदारी दी है इसलिए मैं दो दिन पद यात्रा करूँगा खुद भी सफाई करूँगा और जनता को भी प्रेरित करूँगा कि सड़क पर कचरा ना फेंके। उन्होंने कहा कि मैं अपील करूँगा कि शहर को प्रदूषण मुक्त रखने के लिए जरूरत पड़ने पर ही वाहन चलाएं बाकी समय साइकिल चलाएं जिससे शरीर भी स्वस्थ रहे और शहर भी। उन्होंने कहा कि जिन नलों में टोंटी नहीं लगी वहाँ टोंटी लगवाने की प्रार्थना करूँगा। पानी और बिजली बचाने का लोगों से आग्रह करूँगा।

अतिक्रमणकारियों को हम और आप ही देते हैं शेल्टर

अतिक्रमण विरोधी मुहिम में अतिक्रमणकारियों पर कार्रवाई हो जाती है लेकिन संबंधित अधिकारियों पर कार्रवाई क्यों नहीं होती, इस सवाल के जवाब में ऊर्जा मंत्री ने कहा कि कौन शख्सियत है जो अतिक्रमणकर्ता को शेल्टर देते हैं। किसी को प्रद्युम्न किसी को एक्स किसी को वाय बचाता है। इसमें अधिकारी भी होते हैं और मीडिया के जिम्मेदार लोग भी होते हैं। उन्होंने कहा कि हमारा जो परिचित होता है जब उसपर कार्रवाई होती है तब हम नाराजगी व्यक्त करते हैं और जब दूसरे पर कार्रवाई होती है तब खुश होते हैं। ऊर्जा मंत्री ने कहा कि यदि आप और हम सब तय कर लें तो ग्वालियर में परिवर्तन संभव है और हम को मिलकर ये परिवर्तन लाना है। शहर को जन सहयोग से नंबर एक बनाना है।