कार्य में अनियमितता के आरोप में IAS निलंबित, पूर्व में भाजपा नेता के खिलाफ खोला था मोर्चा

भोपाल/रीवा।

भाजपा(bjp) के वरिष्ठ विधायक(mla) राजेंद्र शुक्ल के खिलाफ आईएएस अफसर(ias officer) की पूर्व की कार्रवाई अब उनपर भारी पड़ रही है। रीवा नगर निगम आयुक्त पद से हटाए जाने के बाद अब सभाजीत यादव को प्रधानमंत्री आवास योजना में अनियमितता के आरोप में निलंबित कर दिया गया है। सभाजीत यादव(sambhajit yadav) को सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा क्रियान्वयन में अनियमितता की वजह से निलंबित(suspended) किया गया है।

दरअसल सभाजीत यादव रीवा नगर निगम के आयुक्त पद पर आसीन थे। किंतु प्रदेश में कमलनाथ सरकार(kamalnath government) के बदलते एवं शिवराज(shivraj) सरकार के आते हैं उन्हें प्रधानमंत्री आवास शहरी योजना में स्थानांतरित कर दिया गया था। यहां भी उन पर अनियमितता का आरोप लगा है। बता दे कि रीवा नगर निगम आयुक्त पद पर रहते हुए सभाजीत यादव ने भाजपा के पूर्व मंत्री राजेंद्र शुक्ल(rajendra sukla) गरीबों के निशुल्क आवास उपलब्ध कराने के मामले में पांच करोड़ 94 लाख की वसूली का नोटिस भेजा था। जिसके बाद मीडिया(media) में भाजपा नेताओं ने यादव को लेकर काफी बयानबाजी की थी। इस दौरान शुक्ला ने उन पर 5 लाख मानहानि नोटिस(notice) भी दायर किया था। इसके बाद शिवराज सरकार के प्रदेश में वापस आते हैं इन पर त्वरित कार्यवाही कर रीवा नगर निगम आयुक्त पद से स्थानांतरित कर दिया गया था।

गौरतलब हो कि शिवराज सरकार के प्रदेश में आते हैं भाजपा के खिलाफ मोर्चा खोलने वाले 2 आईएएस अधिकारियों पर कार्यवाही हुई है। जिसमें एक राजगढ़ कलेक्टर(collector) निधि निवेदिता के निलंबन के साथ-साथ संभाजित यादव का भी नाम शामिल है।