इंदौर में खाकी ने कुछ इस अंदाज में सेलिब्रेट किया मदर्स डे, सालों पुराने रिश्ते में ऐसे घोली मिठास

यहां कोरोना काल (corona phase) मे एक पुलिस अफसर द्वारा बनाये गए आत्मीय रिश्ते की झलक कैमरे में कैद हो गई।

इंदौर

इंदौर, आकाश धोलपुरे। इंदौर (indore) से आज मदर्स डे (mothers day) के उपलक्ष्य में बहुत ही भावुक (emotional) खबर सामने आ रही है। ये सच है कि माँ से बड़ा रिश्ता इस दुनिया मे कोई दूसरा नहीं होता है। और इस सच को कोई झुठला भी नही सकता है। मां का अपने बच्चों और बच्चों से अपने मां के रिश्ते के समपर्ण के लिए हर दिन खास होता है लेकिन मदर्स डे पर खुशियां दोगुनी हो जाती है। कुछ ऐसी ही खुशी आज इंदौर में देखने को मिली। यहां कोरोना काल (corona phase) मे एक पुलिस अफसर द्वारा बनाये गए आत्मीय रिश्ते की झलक कैमरे में कैद हो गई।

यह भी पढ़ें… गैलेक्सी अस्पताल ने रेड क्रॉस सोसाइटी में जमा किए 25 लाख रुपए, पूर्व मुख्यमंत्री ने ट्वीट कर उठाए सवाल

दरअसल, कोरोना को हाल ही में हराकर लौटे विजय नगर थाना प्रभारी तहजीब काजी ने हाल ही में अपनी माँ के साथ कोरोना से जमकर जंग लड़ी थी और जिंदादिली के साथ वो अपनी माँ के साथ स्वस्थ होकर घर भी लौटे थे। वहीं आज जो तस्वीरें सामने आई है उसमें टीआई तहजीब काजी की जिंदगी का एक और पन्ना खुलकर सामने आया है।

पुलिस अफसर ने जन्म देने वाली माँ के लिए तो अपना फर्ज निभाया ही है साथ ही उन्होंने मुंह बोली माँ का भी कोरोना काल मे खूब ध्यान रखा और आज मदर्स डे के खास मौके पर अपनी उसी माँ के हाथों से केक कटवाया और माँ के हाथों ही केक खाया भी। बता दें कि ये मुंहबोला रिश्ता अब दिल की गहराइयो तक जुड़ चुका है। 3 साल पहले जुड़े रिश्ते की शुरुआत भी दिलचस्प अंदाज में हुई थी जब तहजीब काजी इंदौर के तुकोगंज थाना क्षेत्र में पदस्थ थे उस वक्त सुहासिनी तलवार नाम की बुजुर्ग महिला के साथ धोखाधड़ी का केस हुआ था। बस इसी केस को सुलझाते हुए माँ और बेटे के एक नए रिश्ते ने जन्म ले लिया जिसे टीआई तहजीब काजी आज भी बखूबी निभा रहे है।

यह भी पढ़ें… अब बिजली विभाग के अधिकारी, कर्मचारी भी होंगे कोरोना योद्धा, आदेश जारी

रविवार को विजय नगर टीआई तहजीब काजी यशवंत निवास रोड स्थित अपनी मुंहबोली माँ सुहासिनी तलवार के घर केक लेकर पहुंचे और माँ के हाथों से केक भी खाया। कोरोना काल मे सुकून देने वाली तस्वीरें फिलहाल सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही है। बुजुर्ग सुहासिनी तलवार के बच्चे नहीं है और वो टीआई तहजीब काजी को ही अपना बेटा मानती है। ऐसे में टीआई तहजीब काजी भी उनका पूरा ख्याल रखते है।

सुहासिनी तलवार ने बताया कि आज का दिन उनके लिए खास रहा और उन्हें बहुत खुशी हुई। उन्होंने बताया कि मैंने अपने बेटे को खूब आशीर्वाद दिया। वहीं टीआई तहजीब काजी ने बताया कि मदर्स डे होने के साथ ही वो कोरोना संकट के बीच अपनी माँ का हाल जानने पहुंचे और उन्हें वैक्सीनेशन के लिए भी कहा है। वहीं वो अपने इस खास रिश्ते की सेवा के लिए हमेशा त्तपर रहते है।

फिलहाल, इंदौर से आई ये तस्वीरे ये बताने के लिए काफी है कि माँ शब्द में ही पूरी दुनिया समाहित है फिर रिश्ता रक्त से जुड़ा हो या फिर कुदरत की मर्जी से अपने आप ही जुड़ा हो।