Innovation: सिंगरौली में तीन लड़कों ने मिलकर बनाया सैनिटाइजर मशीन

सिंगरौली। राघवेन्द्र सिंह गहरवार

कोरोना वायरस(coronavirus) के संक्रमण से बचाव के लिए सरकार सभी को समझाइश के साथ आग्रह भी कर रही है कि सोशल डिस्टेंस का पालन करें साबुन से हाथ को धोएं,हाथ को सैनिटाइज करें। इसी प्रकार मध्य प्रदेश(madhyapradesh) के सिंगरौली(singrauli) जिले के ग्राम पंचायत क्षेत्र नौढिया के 3 बच्चों ने सेनिटाइजर(sanitizer) मशीन का आविष्कार करते हुए नौढिया के गोरबी बाजार में मशीन को चला कर ट्रायल किया। जिसकी स्थानीय लोगो ने खूब सराहना किया,जब पूरी दुनिया खुद को समेटे हुए अपने आप को बचा रही है।

वही गोरबी के सचिन पांडेय, मंजीत श्रीवास्तव, बादल गुप्ता इन 3 लड़को ने मिलकर लगभग 8000 रुपये लागत की अपने पॉकेट मनी से सेनिटाइजर मशीन का अविष्कार करके यह सिद्ध कर दिया है कि मुसीबत की घड़ी में भारत देश का हर एक नागरिक हरेक बच्चा देश हित में कतार के पहले नंबर पर खड़ा है। इन लड़कों से बातचीत से पता चला की लॉकडाउन की स्तिथि में सेनिटाइजर मशीन बनाने में काफी कठिनाइयां का सामना करना पड़ा। बच्चों ने बताया कि मशीन बनाने में जो सम्मान की आवश्यकता थी। सारी दुकानें बंद होने के कारण हम लोग मशीन बनाने में अपने आप को असमर्थ महसूस कर रहे थे। लेकिन किसी तरफ से उन्होंने मशीन का अविष्कार कर डाला।  वही तीनो बच्चो ने जिला प्रशासन से निवेदन करते हुए कहा है कि अगर हम लोग को सहायता प्रदान किया जाए तो हम लोग निस्वार्थ भावना से मशीन बनाकर आम जनों की सहायता करना चाहते हैं।

Innovation: सिंगरौली में तीन लड़कों ने मिलकर बनाया सैनिटाइजर मशीन