छिंदवाड़ा, विनय जोशी परासिया। बुधवार को छिंदवाड़ा में वैक्सीनेशन कार्यक्रम में एक बड़ी लापरवाही देखने को मिली। यहां कोवैक्सीन लगवा चुके लोगों को कोविशील्ड का दूसरा डोज लगा दिया गया। जिसके बाद जमकर हंगामा हुआ। मामला नगर के एमएलबी स्कूल में बनाए गए वैक्सीनेशन सेेंटर में सामने आया है। दरअसल यहां पहला डोज लगवा चुके लोगों को दूसरा डोज लगाया जा रहा था, लेकिन इसमें टीकाकरण कर रहे स्वास्थ्य कर्मियों ने भारी चूक कर दी।

Indore News: गैस सिलेंडर फटने से हुआ बड़ा धमाका, 2 वर्षीय मासूम सहित 3 लोग घायल

कोवैक्सीन लगवा चुके लोगों को कोविशील्ड का दूसरा डोज लगाए जाने की जानकारी लगते ही उनके परिजनों ने जमकर हंगामा करदिया। छिंदवाड़ा नगर के शनिचरा बाजार में रहने वाली दिव्यांशी पिता दीपक परमार पूर्व में कोवैक्सीन का पहला डोज लग चुका था, जिसके बाद वह बुधवार को एमएलबी के टीकाकरण केंद्र में दूसरा डोज लगवाने पहुंची थी। इस दौरान वह सीधे वैक्सीन लगा रहे स्वास्थ्य कर्मी के पास पहुंची जहां उसका नाम पता नोट करने के बाद उसे सीधे कोविशील्ड का सेंकड डोज लगा दिया गया। बाद में जब दिव्यांशी के परिजनों को इसकी जानकारी लगी तो उन्होंने जमकर हंगामा किया। हालांकि टीकाकरण अधिकारी से उन्होंने बात भी की, लेकिन वे संतुष्ट नजर नहीं आए।

खास बात तो यह कि वैक्सीनेशन सेंटर में टोकन सिस्टम बनाया गया जिसमें टोकन देने के बाद ही वैक्सीन लगाई जाती है, लेकिन एमएलबी में आज जो हुआ उससे साफ जाहिर हो गया कि वेक्सीन लगाने वाली नर्स बिना टोकन के ही वैक्सीन लगा रही है। टोकन में बकायदा यह उल्लेखित किया जाता है कि वैक्सीन लगवाने वाले व्यक्ति को पूर्व में कितने दिन पहले कौन सा डोज लगाया गया था, लेकिन आज एमएलबी में ऐसी कोई व्यवस्था नहीं थी, जिसके कारण यह भारी चूक सामने आई।

Ratlam News: महिला SI ने की थी आत्महत्या की कोशिश, इलाज के दौरान निधन, ये है बड़ा कारण

जब इस सबंध में टीकाकरण अधिकारी डा एलएन साहू से जानकारी मांगी गई तो उन्होंने बड़ा अजीब तर्क दिया। टीकाकरण अधिकारी का कहना था कि विदेशों में कोवैक्सीन के बाद कोविशील्ड लगाने की छूट है। इससे कोई प्राबलम नहीं है। इस तरह अलग अलग वैक्सीन लगाए जाने से एंटी बाडी और इम्युनिटी और भी दोगुनी हो जाती है। हालांकि उन्होंने माना कि एमएलबी सेंटर में टीकाकरण प्रोग्राम में बड़ी चूक हुई है। डा एलएन साहू के मुताबिक आज एमएलबी के वैक्सीनेशन सेंटर में लगभग 4 से 5 लोगों को गलत डोज लगाए गए है। अब इस तरह से अलग अलग वैक्सीन लगवा चुके लोगों के सामने अजीबो गरीब समस्या खड़ी हो गई है। उनका कहना है कि हमें अब सरकार वैक्सीन लगाने का जो प्रमाण पत्र देगी उसमें कोविशील्ड का उल्लेख करेगी या फिर को वैक्सीन का उल्लेख करेगी।