mp board

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश में स्कूली छात्रों के लिए बड़ी खबर है। दरअसल माध्यमिक शिक्षा मंडल (Board of Secondary Education) ने भोपाल में MP Board 9वी और 11वीं के कक्षा में एडमिशन (admission) के लिए गाइडलाइन (guideline) जारी कर दी है। इस संबंध में सभी स्कूलों को निर्देश दे दिए गए है। 15 जून से प्रदेश में 9वी और 11वीं के बच्चों की प्रवेश प्रक्रिया शुरू की जाएगी।

Read More: MPPEB: आरक्षक भर्ती परीक्षा पर नई अपडेट, जाने कब होगी तारीखों की घोषणा

दरअसल लोक शिक्षण संचालनालय (Directorate of Public Instruction) द्वारा सभी जिलों को निर्देश पत्र जारी किए गए हैं। जिसमें 15 जून से MP Board 9वी और 11वीं के शैक्षणिक सत्र की शुरुआत करने के निर्देश दिए गए हैं। इसके अलावा लोक शिक्षण संचालनालय (DPE) ने संबंधित विद्यार्थियों को भी इस बारे में सूचना देने की बात कही है। दरअसल मध्यप्रदेश में कोरोना की दूसरी लहर (corona second wave) को देखते हुए 10वीं और 12वीं की परीक्षा को रद्द (10th-12th exam cancel) कर दिया गया था। साथ ही इंटरनल एसेसमेंट (internal assessment) के जरिए 10वीं और 12वीं के परीक्षा परिणाम तैयार करने के निर्देश दिए गए थे।

Read More: Rare Coins: अगर आपके पास है ये 2 रूपए का सिक्का तो आपको बनाएगा लखपति, देखे डिटेल्स

बता दे कि राज्य सरकार की नई नीति के तहत एक परिसर एक शाला के दौरान कक्षा आठ के विद्यार्थियों को टीसी जारी नहीं की जाएगी। इसके स्थान पर उन्हें 9वीं कक्षा में प्रवेश दिया जाएगा। इसके लिए बच्चों को उसी स्कूल के कक्षा 9 में प्रवेश दी जाएगी। MP School में 15 से 30 जून तक प्रवेश की प्रक्रिया की जाएगी। वहीं इस दौरान 9 से 11वीं तक की छात्रों के प्रवेश लिए जाएंगे। बता दे कि मध्य प्रदेश में फिलहाल स्कूल में प्रवेश की प्रक्रिया शुरू होगी जबकि ऑनलाइन माध्यम से नियमित कक्षाओं का आयोजन किया जाएगा।

माना जा रहा है कि जुलाई में 10वीं की परीक्षा परिणाम घोषित कर दिए जाएंगे जबकि एक 11वीं में प्रवेश की प्रक्रिया मेरिट लिस्ट (merit list) के आधार पर पूरी की जाएगी। 10वीं के परीक्षा परिणाम के आधार पर 11वीं में प्रवेश दिए जाएंगे। इसके लिए तैयारियां शुरू कर दी गई है। बता दें कि मध्य प्रदेश में फिलहाल स्कूलों के खुलने पर कोई सहमति नहीं बनी है। इसलिए बच्चे सिर्फ प्रवेश प्रक्रिया पूरी करने के लिए स्कूल में उपस्थित होंगे। इस दौरान उन्हें गाइडलाइन का पालन करना होगा। साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग (social distancing), मास्क (mask) और सैनिटाइजर की पूरी व्यवस्था स्कूल प्रशासन द्वारा की जाएगी।