MP Board: 9वीं-11वीं की परीक्षा को लेकर इंदर सिंह परमार का बड़ा बयान- जल्द जारी होंगे आदेश

स्कूल शिक्षा मंत्री का कहना है कि जल्द घर से ही परीक्षा आयोजित कराने के संबंध में लिखित आदेश जारी किया जाएगा।

mp board

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश में स्कूलों (MP School) को 15 मार्च तक बंद कर दिया गया है। कोरोना की बढ़ती रफ्तार को देखकर ये फैसला लिया गया। जिसके बाद अब MP Board 9वीं और 11वीं की परीक्षा ऑनलाइन मोड (online mode) से ली जाएगी। यह बात स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार (inder singh parmar) ने कही है।

स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार ने कहा कि कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए 9वी और 11वीं की परीक्षा ऑफलाइन (offline) नहीं ली जा सकती है। जिसके बाद घरों से ही 9वी और 11वीं की परीक्षा ली जाएगी। इसके लिए विद्यार्थियों को प्रश्नपत्र (question) घर पर भेज जाएंगे। वहीं छात्र को अपने स्कूल में जमा कराने आएंगे।

बता दे कि संक्रमण की रफ्तार को देखते हुए प्रदेश के स्कूलों को 15 अप्रैल तक बंद रखा गया है। अब ऐसी स्थिति में 9वी और 11वीं की फाइनल परीक्षा ऑफलाइन (offline) नहीं ली जाएगी। स्कूल शिक्षा विभाग (School Education Department) द्वारा प्रदेश में 9वीं और 11वीं की परीक्षा ओपन बुक सिस्टम (open book system) से कराए जाने का फैसला किया गया है।

Read More: MP: केसों में रिकॉर्ड बढ़ोतरी, आज मिले 2839 मरीज, समीक्षा बैठक में हो सकता है बड़ा फैसला

वही मंत्री इंदर सिंह परमार ने कहा कि जिस तरह से कोरोना के मामले सामने आ रहे हैं। वैसी स्थिति में ऑफलाइन परीक्षा आयोजित कराना संभव नहीं है। परमार ने कहा कि ऑनलाइन परीक्षा कराने के लिए भी छात्र छात्राओं को स्कूल बुलाना पड़ता। इसके लिए अब प्रश्न पत्र छात्र-छात्राओं के घर पर भेजे जाएंगे। वहीं छात्रों द्वारा घर में ही प्रश्न पत्र को हल कर कॉपियां स्कूलों में जमा करवानी होगी। इस मामले में स्कूल शिक्षा मंत्री का कहना है कि जल्द घर से ही परीक्षा आयोजित कराने के संबंध में लिखित आदेश जारी किया जाएगा।

बता दें कि 9वी और 11वीं के लिए फाइनल परीक्षा 12 अप्रैल से शुरू होनी है। वहीं कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच राज्य शिक्षा विभाग द्वारा परीक्षा कराए जाने की समुचित व्यवस्था कर ली गई है। लेकिन बच्चों की सेहत से खिलवाड़ ना करने की बात कहते हुए मंत्री इंदर सिंह परमार ने कहा है की ऑनलाइन मोड़ से परीक्षा लेना बच्चों के हित में है।