MP Board: माशिमं ने 9वीं और 11वीं के पाठ्यक्रम में किया बदलाव, सिलेबस में की कटौती

इस मामले में माध्यमिक शिक्षा मंडल के अधिकारियों का कहना है कि आगे की प्रतियोगी परीक्षा को ध्यान में रखते हुए माध्यमिक शिक्षा मंडल सिलेबस में कटौती कर रहा है ताकि विद्यार्थियों पर बोझ ना बढ़े।

MP board

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल (Madhya Pradesh Board of Secondary Education) ने नवमी और ग्यारहवीं के कक्षा के लिए एक बार फिर से सिलेबस में बदलाव किया है। कोरोना काल (corona period) में बच्चों के पाठ्यक्रम (syllabus) को हल्का करने के लिए लगातार माध्यमिक शिक्षा मंडल सिलेबस में कटौती करता रहा है। इसी बीच एक बार फिर से आठवीं और दसवीं के पाठ्यक्रम को कम किया गया है। जिससे विद्यार्थियों पर पड़ने वाले बोझ को कम किया जा सके।

दरअसल माध्यमिक शिक्षा मंडल ने इससे पहले 10वीं और 12वीं के सिलेबस में भी 20 से 30% की कटौती की थी। वहीं अब नवमी और ग्यारहवीं के विषयों में कटौती की गई है। जिसका सिलेबस मण्डल द्वारा वेबसाइट (website) पर उपलब्ध करा दिया गया है। माध्यमिक शिक्षा मंडल के अधिकारियों के मुताबिक नौवीं कक्षा के गणित विषय में कुछ अध्ययन की कटौती की गई है। वहीं सामाजिक विज्ञान में भी कुछ अध्याय काटे गए हैं। जबकि हिंदी, विज्ञान के सिलेबस यथावत है। इधर 11वीं कक्षा में हिंदी अंग्रेजी विश्व से कुछ पाठ्यक्रम की कटौती की गई है। वहीँ इससे पहले 2020-21 में 10वीं एवं 12वीं में विशिष्ट व सामान्य की अनिवार्यता समाप्त कर दी गयी है। विद्यार्थियों को विकल्प की सुविधा दी गई है। विशिष्ट एवं सामान्य में से छात्र कोई भी भाषा का चुनाव कर सकता है।

Read More: शासकीय कर्मचारियों के लिए शिवराज सरकार की बड़ी घोषणा, मिलेगा लाभ

इस मामले में अधिकारी का कहना है कि विद्यार्थी जो पाठ्यक्रम सातवीं आठवीं में पढ़ चुके हैं। उसे नवमी और दशमी से हटाया गया है जबकि 11वीं में पढ़े कुछ सिलेबस को 12वीं से हटाया गया है। इसके साथ अन्य कुछ संकायों के भी पाठ्यक्रम में कटौती की गई है। इस मामले में माध्यमिक शिक्षा मंडल के अधिकारियों का कहना है कि आगे की प्रतियोगी परीक्षा को ध्यान में रखते हुए माध्यमिक शिक्षा मंडल सिलेबस में कटौती कर रहा है ताकि विद्यार्थियों पर बोझ ना बढ़े।

बता दें कि मध्यप्रदेश में और उनके बढ़ते संक्रमण को देखते हुए सरकार ने 31 दिसंबर तक के लिए एक से आठवीं तक की कक्षाएं बंद रखने का निर्णय लिया है। वही 9वीं से 12वीं के विद्यार्थियों की कक्षा आंशिक रूप से खोलने की अनुमति दी गई है।