MP में सरकार ने तय की कोरोना टेस्टिंग की फीस, अब अस्पताल और लैब नहीं वसूल सकेंगे मनमाना पैसा

शिवराज सरकार ने एक बार फिर कोरोना संक्रमण की जांच के दामों को फिक्स कर दिया है, सोमवार को स्वास्थ्य विभाग ने एक आदेश जारी करते हुए कोरोना टेस्टिंग की दर नए सिरे से तय कर दी है।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (MadhyaPradesh) में कोरोना मरीजों (Corona patients) की बढ़ती संख्या को देखते हुए निजी अस्पताल (private hospital) मरीजों से मनमाने तरीके से फीस वसूल कर रहे हैं, जिसको लेकर शिवराज सरकार (Shivraj government) ने एक बार फिर कोरोना संक्रमण की जांच के दामों को फिक्स कर दिया है अब निजी अस्पताल कोरोना मरीजों से मनमानी राशि वसूली नहीं कर पाएंगे। सोमवार को स्वास्थ्य विभाग ने एक आदेश जारी करते हुए कोरोना टेस्टिंग (Corona Testing) की दर नए सिरे से तय कर दी है।

यह भी पढ़ें….Indore News: रिटायर्ड पुलिस अधिकारी के बंगले पर चल रहे हाई प्रोफाइल Sex Racket का खुलासा

यह तय हुए नए रेट
मध्यप्रदेश में RT-PCR से कोरोना जांच लैब में जा कर करवाने में मात्र 700 लगेंगे जबकि रैपिड एंटीजन टेस्ट (Rapid Antigen Test) के लिए 300 रुपए हर व्यक्ति को देना होगा। वही अगर टेस्ट सैम्पल को घर से कलेक्ट किया जाता है तो उसके लिए एक्स्ट्रा 200 रुपए चार्ज देना होगा। इस पूरी फीस में सैंपल कलेक्शन ट्रांसपोर्ट, पीपीई किट, शुल्क कंज्युमेबल्ज़ और सारे चार्जेस शामिल होंगे ।

ऐसी होगी जांच प्रक्रिया
कोरोना वायरस की RT-PCR जांच और रेपिड एंटीजन टेस्ट के लिए भारत और राज्य सरकार द्वारा निर्धारित प्रोटोकॉल और गाइडलाइन (Guideline) का पालन सुनिश्चित किया जाएगा। वही सैंपल लेते समय जिस व्यक्ति की जांच हो रही है उसका नाम, पूरा पता, मोबाइल नंबर यह सारी जानकारी आरटीपीसीआर ऐप पर अपलोड करते हुए सूचना को गोपनीय रखा जाएगा। वहीं रिपोर्ट को आईसीएमआर के पोर्टल पर अपलोड किया जाएगा और रिपोर्ट आते ही मरीज को तुरंत सूचना दी जाएगी।

MP में सरकार ने तय की कोरोना टेस्टिंग की फीस, अब अस्पताल और लैब नहीं वसूल सकेंगे मनमाना पैसा

यह भी पढ़ें….Jabalpur में बिना मास्क के घूमने पर 40 लोगों को भेजा अस्थाई जेल