MP Flood: बाढ़ प्रभावित निकायों में स्थिति सामान्य करने चल रहा कार्य, मंत्री भूपेंद्र सिंह ने दिये निर्देश

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। प्रदेश में अतिवृष्टि (heavy rain) से जनजीवन अस्त व्यस्त है। शिवपुरी-कोलारस के अनेक भागों में बाढ़ (MP Flood) से नागरिकों का काफी नुकसान हुआ है। राज्य व केंद्र सरकार नागरिकों की सुरक्षा हेतु हर संभव प्रयास कर रही है।वायु सेना, NDRF, SDRF की टीमें लगातार Rescue ऑपरेशन चला रही हैं। इसी बीच नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेन्द्र सिंह (bhupendra singh) ने बताया है कि बाढ़ से प्रभावित ग्वालियर एवं चम्बल संभाग के सभी नगरीय निकायों में सामान्य स्थिति बहाल करने के लिये 24 घंटे निकाय के अधिकारी एवं कर्मचारी काम कर रहे हैं। उन्होंने शीघ्र जरूरी कार्यवाही करने के निेर्देश दिये हैं।

भूपेन्द्र सिंह ने कहा कि प्रभावित नगरीय निकायों में आवश्यक भौतिक संसाधन एवं सुरक्षात्मक उपायों के लिये जरूरी सहयोग प्रदान करने के लिये संचालनालय स्तर पर और ग्वालियर में कंट्रोल-रूम स्थापित किया गया है। संचालनालय स्तर के कंट्रोल-रूम का प्रभारी अपर आयुक्त गौरव बेनल और ग्वालियर में बनाये गये कंट्रोल-रूम का प्रभारी मुख्य कार्यपालन अधिकारी स्मार्ट सिटी ग्वालियर श्रीमती जयति सिंह को बनाया गया है। कंट्रोल-रूम 24 घंटे काम करेगा।

Read More: Rahul Gandhi का Twitter अकाउंट अस्थायी रूप से निलंबित, कांग्रेस ने कहा – प्रक्रिया जारी

क्षतिग्रस्त आवासों का सर्वेक्षण

मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने कहा कि वर्षा के दौरान जिन परिवारों के घर टूटे हैं, उनका सर्वे कर प्रधानमंत्री आवास योजना अंतर्गत डीपीआर बनाने के निर्देश दिये गये हैं। राज्य स्तर पर भी सर्वेक्षण का कार्य प्रारंभ कर दिया गया है।

श्योपुर में आयुक्त नगरीय प्रशासन कर रहे मॉनिटरिंग

आयुक्त नगरीय प्रशासन एवं विकास निकुंज श्रीवास्तव आज स्वयं श्योपुर पहुँचकर बाढ़ राहत कार्यों की मॉनिटरिंग कर रहे हैं। बाढ़ प्रभावित श्योपुर एवं बड़ौद में 4 मुख्य नगरपालिका अधिकारी और 4 उपयंत्री को आगामी 7 दिनों के लिये निकाय में ही कैम्प करने के लिये भेजा गया है। आसपास के नगरीय निकायों से अतिरिक्त श्रमिकों की टीम निकायों में भेजी गई है।

नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने बताया है कि नगरपालिक निगम भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, मुरैना और नगरपालिका परिषद भिण्ड तथा मध्यप्रदेश अर्बन डेव्हलपमेंट कम्पनी से भी विभिन्न उपकरण भेजे गये हैं। इनमें सीवर सक्शन मशीन, जेटिंग मशीन, स्प्रे ट्रेक्टर, तिरपाल, जनरेटर आदि सामग्री भेजी गई है।

जल-प्रदाय व्यवस्था

भूपेन्द्र सिंह ने बताया कि नगरपालिका परिषद श्योपुर में 76 नलकूप चालू कर दिये गये हैं, जिनमें से 70 बिजली तथा 6 नलकूपों को जनरेटर से संचालित किया गया है।  नगरपालिका परिषद डबरा में इंटेकवेल पम्प एवं पैनल बोर्ड पूरी तरह से डूब गये थे। इनके सुधार की कार्यवाही जारी है।

अंतरिम व्यवस्था के तहत ट्यूबवेल के माध्यम से जल-प्रदाय की व्यवस्था की जा रही है। नगर परिषद इंदरगढ़ में अंतरिम रूप से ट्यूबवेल के माध्यम से जल-प्रदाय व्यवस्था की जा रही है। नगरीय निकायों को संक्रामक रोगों के फैलने की संभावना को देखते हुए ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव करने और सार्वजनिक शौचालयों को साफ-सुथरा रखने के निर्देश दिये गये हैं। बरसात में पीने के लिये उपयोग आने वाले पानी के लिये आवश्यक रसायनों की व्यवस्था करने के निर्देश भी दिये गये हैं।