किसान बिल का विरोध, केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल का मोदी कैबिनेट से इस्तीफा

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। संसद में पारित किसान बिल (Farmer bill) के विरोध में शिरोमणि अकाली दल(Shiromani Akali Dal)  की नेता और केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल(Union Minister Harsimrat Kaur Badal) ने सरकार में अपने मंत्री पद से इस्तीफा (Resignation) दे दिया है। पार्टी के प्रधान सुखबीर सिंह बादल(Sukhbir Singh Badal) ने कृषि उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्द्धन और सुविधा) विधेयक-2020 (Agricultural Produce Trade and Commerce (Promotion and Facilitation) Bill-2020) और कृषक (सशक्तिकरण एवं संरक्षण) कीमत आश्वासन समझौता और कृषि सेवा पर करार विधेयक-2020 (Agreement Bill -2020) पर चर्चा में भाग लेते हुए कहा कि शिरोमणि अकाली दल किसानों की पार्टी है और वो कृषि संबंधी इन विधेयकों का विरोध करती है। कांग्रेस के आरोपों को खारिज करते हुए आगे उन्होंने निचले सदन में चर्चा के दौरान कहा कि शिरोमणि अकाली दल ने कभी भी यू-टर्न नहीं लिया। बादल ने कहा कि हम राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के साथी हैं। हमने सरकार को किसानों की भावना बता दी, हमने इस विषय को हर मंच पर उठाया है, हमने प्रयास किया कि किसानों की आशंकाएं दूर हों लेकिन ऐसा नहीं हो पाया।

वहीं किसानों के योगदान को बताते हुए कहा कि पंजाब के किसानों ने अन्न के मामले में देश को अत्मनिर्भर बनाने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। पंजान सरकार ने हमेशा कृषि आधारभूत ढांचा तैयार करने के लिये कठिन काम किया है, लेकिन यह अध्यादेश उनकी 50 साल की तपस्या को बर्बाद कर देगा। आगे अकाली के नेता ने लोकसभा में ऐलान करते हुए कहा कि मैं घोषणा करता हूं कि हरसिमरत कौर बादल सरकार से इस्तीफा देंगी, जिसके बाद हरसिमरत ने अपना इस्‍तीफा दे दिया।

वहीं हरसिमरत कौर ने ट्वीट के जरिए अपने इस्तीफा के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि मैंने किसान विरोधी अध्यादेशों और कानून के विरोध में केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया है। किसानों के साथ उनकी बेटी और बहन के रूप में खड़े होने का गर्व।

 

बता दें कि हरसिमरत कौर मोदी सरकार में अकाली दल की अकेली प्रतिनिधि है। वहीं आकाली दल भारतीय जनता पार्टी के सबसे पुरानी सहयोगी पार्टी कहलाई जाती है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here