इंदौर की बेटी पलक शर्मा को मिला प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार, पीएम ने दी बधाई

11 स्वर्ण और रजत पदक मिलाकर कुल 16 पदक जीतने वाली इंदौर की इंटरनेशनल गोताखोर पलक शर्मा को गणतंत्र दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

इंदौर, आकाश धोलपुरे। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर की 13 साल की गोताखोर पलक शर्मा को आज प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।  महज 8 साल की उम्र से तैराकी में गोताखोरी विधा को सीखने और लगातार अभ्यास के चलते 13 वर्ष की ही उम्र में पलक ने साल 2019 में आयोजित एशियन एज ग्रुप चैंपियनशिप में एक स्वर्ण और दो रजत पदक जीतकर भारत का नाम रोशन किया था। अब तक 11 स्वर्ण और रजत पदक मिलाकर कुल 16 पदक जीतने वाली इंदौर की इंटरनेशनल गोताखोर पलक शर्मा को गणतंत्र दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

सोमवार को इंदौर कलेक्टर ऑफिस में जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट और पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री उषा ठाकुर की मौजूदगी में दोपहर को इंटरनेशनल गोताखोर पलक को वर्चुअल माध्यम से पीएम नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार से सम्मानित किया। वर्चुअल समारोह में दिल्ली से पीएम मोदी और यूनियन मिनिस्टर स्मृति ईरानी शामिल हुई।

अपने गुरु रमेश व्यास और माता – पिता को आदर्श मानने वाली पलक शर्मा ने 2019 में एशियन एज ग्रुप चैंपियनशिप में एक स्वर्ण और दो रजत पदक जीतकर इंदौर सहित समूचे देश का नाम रोशन किया था। स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीतने वाली पलक अब तक की सबसे कम उम्र की गोताखोर भी बनी है। पलक ने इतनी छोटी उम्र में पांच राष्ट्रीय स्पर्धाओं में मध्य प्रदेश का प्रतिनिधित्व किया और अब तक वह अलग अलग वर्गो में कुल 11 स्वर्ण पदक हासिल कर चुकी है।

सम्मान समारोह के दौरान पलक के कोच रमेश व्यास भी मौजूद थे, जिनका सम्मान मंत्री तुलसी सिलावट ने किया। इस मौके पर पलक ने अपनी सफलता का श्रेय अपने कोच और माता पिता को देकर कहा कि वो रोज 8 घण्टे प्रैक्टिस करती हैं। वही उन्होंने प्रधानमंत्री से मांग की है कि इंदौर में अंतराष्ट्रीय स्तर का स्विमिंग पूल तैयार करवाया जाए। इसके अलावा उन्होंने कहा कि वो गोताखोरी में ओलंपिक में भारत के लिए गोल्ड जीतना चाहती है।

इस मौके पर पलक के पिता पंकज शर्मा ने बताया कि बचपन से पलक को स्विमिंग का शौक था और अब गोताखोरी उसका जुनून बन चुका है। उन्होंने बताया कि उनके परिवार में आज तक कोई खेल के क्षेत्र में नही गया है, लेकिन पलक ने आज पूरे परिवार का सम्मान बढ़ाया है। वहीं उन्होंने कहा स्विमिंग के कारण पलक की पढ़ाई पर असर पड़ता है इसलिए अब तक 4 से 5 स्कूल वो बदल चुकी हैं क्योंकि हर स्कूल में कई तरह की दिक्कत आ रही थी जिसके कारण उसकी स्विमिंग प्रेक्टिस पर असर पड़ रहा था।इस मौके पर प्रदेश सरकार की मंत्री उषा ठाकुर और मंत्री तुलसी सिलावट ने भरोसा दिलाया कि इंदौर में जल्द सर्वसुविधा युक्त स्विमिंग पूल का निर्माण करवाया जाएगा। वहीं उन्होंने पलक और पूरे परिवार को शुभकामनाएं दी।