शिवराज सिंह चौहान के निर्देश- समर्थन मूल्य पर हो धान की खरीदी

शिवराज सिंह चौहान ने आज निवास पर वरिष्ठ अधिकारियों के साथ प्रदेश में धान खरीदी के संबंध में बैठक कर समीक्षा की। मुख्यमंत्री ने धान की खरीदी, किसानों को राशि के भुगतान और उपार्जित धान के भंडारण के संबंध में विस्तार से चर्चा की।इस दौरान मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि अधिकारियों को निर्देश दिए कि धान की खरीदी समर्थन मूल्य पर हो, किसान से एक-एक दाना खरीदा जाए।

शिवराज सिंह चौहान

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट।  चुनावी सरगर्मियों के बीच मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि धान की खरीदी समर्थन मूल्य (support price) पर हो, किसान से एक-एक दाना खरीदा जाए। धान खरीदी से किसान लाभान्वित हों, उन्हें कोई कठिनाई न आए, इसके लिए सभी व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जाएं।

दरअसल, आज मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज निवास पर वरिष्ठ अधिकारियों के साथ प्रदेश में धान खरीदी के संबंध में बैठक कर समीक्षा की। मुख्यमंत्री ने धान की खरीदी, किसानों (Farmers) को राशि के भुगतान और उपार्जित धान के भंडारण के संबंध में विस्तार से चर्चा की।इस दौरान मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि अधिकारियों को निर्देश दिए कि धान की खरीदी समर्थन मूल्य पर हो, किसान से एक-एक दाना खरीदा जाए। धान खरीदी से किसान लाभान्वित हों, उन्हें कोई कठिनाई न आए, इसके लिए सभी व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जाएं।

यह भी पढ़े.. कृषि बिल: मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का राहुल गांधी पर तंज- क्या उन्हें पता है प्याज जमीन के नीचे होता है या ऊपर

धान की गुणवत्ता का ध्यान रखा जाए

मुख्यमंत्री शिवराज ने कहा कि धान खरीदी के केंद्र बढ़ेंगे, किसानों को लाइन में नहीं लगने दिया जाएगा. धान खरीदी की समुचित व्यवस्था होगी, मेरा दृष्टिकोण साफ है कि धान का एक एक दाना खरीदेंगे ।समर्थन मूल्य पर धान खरीदी जाएगी । मध्यप्रदेश की धान उच्च गुणवत्ता की है। धान की गुणवत्ता का ज़रूर ध्यान रखा जाए लेकिन किसान का हित प्राथमिकता से सुनिश्चित किया जाए। किसी भी स्थिति में समर्थन मूल्य से कम राशि किसान को न मिले और उसे बिना परेशानी के उपार्जन प्रक्रिया का लाभ दिया जाए।

शिवराज सिंह चौहान ने रेत ठेकेदरों को लेकर दिए ये निर्देश

25 नवंबर से होगी खरीदी

गौरतलब है कि मध्यप्रदेश में धान की न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) पर खरीदी के लिए 25 नवंबर से खरीदी और पंजीयन का काम 15 अक्टूबर तक होगा। खास बात ये है कि राज्य सरकार द्वारा इस बार समर्थन मूल्य पर धान की खरीदी की जाएगी। पंजीयन कराने वाले किसान धान को समर्थन मूल्य (Minimum Support Price) पर बेच सकेंगे।इस बार प्रदेश में 145 लाख हेक्टेयर में खरीफ फसलों की बोवनी की गई है। सोयाबीन के बाद धान का रकबा सर्वाधिक है, ऐसे में सरकार ने 40 लाख टन धान खरीदने का लक्ष्य रखा है, ताकी किसानों को बड़ी राहत मिल सके।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here