गेहूं खरीदी केंद्रों पर उड़ाई जा रही सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां, नहीं है सैनिटाइजर और मास्क की व्यवस्था

अलीम डायर।अशोकनगर।

कोरोनावायरस के चलते संपूर्ण भारत में लॉक डाउन जारी है इस दौरान राज्य सरकार की ओर से किसानों की फसलें खरीदने के लिए उपार्जन केंद्रों की संख्या बढ़ा दी गई है जिससे कि किसानों को अपनी फसल बेचने में दिक्कत परेशानी ना हो और कोरोनावायरस जैसी महामारी से भी बचाव हो सके। इसी के साथ सख्त नियमों के तहत उपार्जन केंद्र संचालकों एवं मुनीम को सख्त आदेश दिए गए हैं कि सभी उपार्जन केंद्रों पर लॉक डाउन के दौरान सोशल डिस्टेंस का ख्याल रखा जाए सभी केंद्रों पर हैंडवाश मास्क उपलब्ध हो पर्याप्त छाया की व्यवस्था हो ठंडे पानी की व्यवस्था हो।

लेकिन इन सभी नियमों को ताक पर रखकर सेवा सहकारी समिति गदूली क्रमांक 1 पर मजदूरों से काम कराया जा रहा है इस केंद्र पर न तो पर्याप्त छाया की व्यवस्था है और ना ही सैनिटाइजर है ना ही मजदूरों को मास्क वितरित किए गए हैं सारे मजदूर बिना मास्क के काम कर रहे हैं तो वहीं सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि सभी मजदूर बिना कोई सोशल डिस्टेंशन के काम कर रहे हैं इस कोरोनावायरस जैसी महामारी से बचने के लिए प्रशासन के सख्त निर्देश है कि सोशल डिस्टेंस का ख्याल रखें उसी कि यहां पर धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। मुंगावली स्थित नवीन मंडी में भी नादनखेड़ी केंद्र 1 पर भी बिना मास्क के मजदूरों से काम कराया जा रहा है और वह भी बिना कोई सोशल डिस्टेंस के।

अगर इसी तरह उपार्जन केंद्रों पर अनियमितताएं पाई गई और उपार्जन केंद्र संचालकों द्वारा लापरवाही बरती गई तो कोरोनावायरस को फैलने में देर नहीं लगेगी जबकि अभी तक अशोकनगर जिला कोरोना मुक्त चल रहा है एक भी कोरोनावायरस का पॉजिटिव मरीज नहीं है अगर इसी तरह सोशल डिस्टेंस की धज्जियां उड़ाई गई तो जरूर कोई भी बड़ी अनहोनी हो सकती है जिसका खामियाजा पूरे क्षेत्र को भुगतना पड़ सकता है इस स्थिति में प्रशासन को चाहिए कि इनकी लापरवाही पर लगाम लगाएऔर समय-समय पर इनके केंद्रों की जांच करते रहे।