अंजड में 8 करोड़ की लागत से बनने वाले अस्पताल का तहसीलदार ने किया निरिक्षण

बड़वानी (Barwani) के अंजड नगर में करीब 8 करोड़ की लागत से 50 बिस्तर का अस्पताल बनना था, जिसके चलते अंजड के तहसीलदार (Anjad Tehsildar) भागीरथ वखला और बड़वानी PUI के इंजीनियर ने मंगलवार को अंजड स्थित इंदिरा सागर कालोनी का निरीक्षण किया।

बड़वानी, हेमंत नागझिरिया। बड़वानी (Barwani) के अंजड नगर में करीब 8 करोड़ की लागत से 50 बिस्तर का अस्पताल बनना था , जिसके निर्माण के लिए एक साल पहले ही स्वीकृति मिल चुकी है। जिसके चलते अंजड के तहसीलदार (Anjad Tehsildar) भागीरथ वखला और बड़वानी PUI के इंजीनियर ने मंगलवार को अंजड स्थित इंदिरा सागर कालोनी का निरीक्षण किया।

यह भी पढ़ें….Indore News : गार्ड की गोली लगने से हुई मौत, सुसाइड की जताई जा रही आशंका

दरअसल इस अस्पताल का निर्माण लोगों की असुविधा को खत्म करने के लिए किया जा रहा है। इसका निर्माण अंजड नगर के शनि मंदिर के पास बनना तय हुआ था। अंजड के बीजेपी संगठन के द्वारा सांसद गजेंद्र सिंह पटेल को इस निर्णय से अवगत कराया गया था कि अस्पताल को नगर के मध्य या पास में बनाया जाए क्योंकि शनि मंदिर के पास अस्पताल होने से नगर वासियों को काफी दूर चिकित्सा के लिए जाना पड़ेगा। इसे नगर के रोड के पास इंदिरा सागर कॉलोनी जो कि काफी समय से खाली पड़ी हुई है उसपर बनाने का प्रस्ताव रखा गया। उस जमीन का अस्पताल के लिए उपयोग किया जा सकता है जिसके बाद मंजूरी मिलने के बाद तहसीलदार और इंजीनियर जमीन का निरीक्षण करने पहुंचे थे।

अंजड के पूर्व बीजेपी मंडल अध्यक्ष ओम प्रकाश खण्डेलवाल का कहना है कि नगर वासियों के लिए 50 बिस्तर का अस्पताल का निर्माण हो रहा है। जिसके लिए जमीन की आवश्यकता थी जिसके लिए नर्मदा कॉलोनी की जमीन को अधिकारी देखने गए थे क्योंकि राजस्व की जमीन नगर के आसपास कहीं मिल नहीं रही है । वहीं 15 सालों से खाली पड़ी इस जमीन को पर अगर हॉस्पिटल बनता है तो नगरवासियों के लिए काफी सुविधा होगी।

बड़वानी के पीयूआई इंजीनियर जानकारी देते हुए बताया किअंजड़ में 50 बिस्तर के अस्पताल बनने के लिए जमीन आबंटित हुई थी। जिसके चलते जगह चिन्हित करने के लिए तहसीलदार द्वारा मुआयना किया गया अभी वर्तमान में जमीन एनवीडीए की है। जिसका अभी उपयोग नहीं हो रहा है , लेकिन जमीन एनवीडीए की होने के कारण उसकी स्थानांतरण प्रक्रिया अभी बाकी है कलेक्टर से चर्चा कर कर उसे जल्द पूरा किया जाएगा जिसके बाद हॉस्पिटल का निर्माण चालू होगा।