UPSC Recruitment: यूपीएससी ने निकाली 83 पदों पर भर्ती, 31 मई तक करें आवेदन, कहीं छूट न जाए अवसर

यूपीएससी ने 80 से अधिक पदों पर भर्ती निकाली है। आवेदन प्रक्रिया 31 मई तक जारी है। ऑफिशियल वेबसाइट upsconline.nic.in पर जाकर आवेदन कर सकते हैं।

upsc recruitment 2024

UPSC Recruitment 2024: यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन ने विभिन्न पदों पर भर्ती निकाली है। आवेदन शुरू हो चुके हैं। इच्छुक उम्मीदवार 31 मई तक आवेदन कर सकते हैं। कुल 83 पद रिक्त हैं। जिसमें से मार्केटिंग ऑफिसर के लिए 33, ट्रेनिंग ऑफिसर के लिए 16, असिस्टेंट रिसर्च ऑफिसर के लिए 15, असिस्टेंट माइनिंग इंजीनियर के लिए 7, असिस्टेंट प्रोफेसर के लिए 2 और असिस्टेंट कमिश्नर के लिए 1 पद खाली है। टेस्ट इंजीनियर, साइन्टिफ़िक ऑफिसर, फैक्ट्री मैनेजर, प्रोफेसर (सिविल इंजीनियर), प्रोफेसर (इलेक्ट्रॉनिक्स एवं कम्यूनिकेशन इंजीनियरिंग) के लिए 1-1 पद रिक्त हैं।

योग्यता

विभिन्न पदों के लिए योग्यता अलग निर्धारित की गई है। असिस्टेंट कमिश्नर के पद पर आवेदन करने के लिए उम्मीदवारों के बार एग्रीकल्चरल/एग्रीकल्चरल इकोनॉमिक्स/ स्टैटिसटिक्स में मास्टर्स की डिग्री होनी चाहिए। इसके अलावा 5 वर्ष का अनुभव भी होना चाहिए। टेस्ट  इंजीनियर के पद पर एग्रीकल्चरल इंजीनियरिंग में डिग्री प्राप्त उम्मीदवार आवेदन कर सकते हैं, उन्हें 3 वर्ष का अनुभव भी होना चाहिए। मार्केटिंग ऑफिसर के पद पर आवेदन करने के लिए उम्मीदवारों के पास एग्रीकल्चर से संबंधित विषयों में मास्टर्स की डिग्री होना जरूरी है। फिजिक्स  में मास्टर्स या मैकेनिकल इंजीनियरिंग और मेटालर्जी में डिग्री प्राप्त उम्मीदवार साइंटिफ़िक ऑफिसर के पद पर आवेदन कर सकते है।  फैक्ट्री मैनेजर के पद पर आवेदन करने के लिए उम्मीदवारों का माइक्रोफोन साइंस इन माइक्रोबायोलॉजी या फार्मास्यूटिकल केमेस्ट्री में मास्टर्स की डिग्री और 1 साल का अनुभव होना चाहिए। अन्य पदों के लिए योग्यता से संबंधित जानकारी के लिए आधिकारिक अधिसूचना देखने की सलाह दी जाती है।

Continue Reading

About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"