New Rules: 1 मार्च से बदल जाएंगे ये 5 नियम, जनता की जेब पर पड़ेगा असर, पढ़ें पूरी खबर

Rule Changing From March 1: कुछ दिनों में फरवरी खत्म होने वाला है। जिसके बाद मार्च माह का आगमन होगा। फरवरी में सरकार द्वारा कई नियमों में परिवर्तन किया गया है। मार्च की स्थिति भी कुछ ऐसी ही हो सकती है। जनता को कई नए बदलाव देखने को मिल सकते हैं। बैंक लोन महंगा कर सकते हैं। सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म पर भी नए फीचर्स नजर आ सकते हैं। ट्रेन के टाइम-टेबल में भी बदलाव हो सकता है। इन परिवर्तनों का सीधा असर आमजन पड़ेगा। आइए जानें मार्च में कौन-से नए नियम लागू होने वाले हैं:-

बैंक महंगा कर सकते हैं लोन

हाल ही में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने रेपो रेट में वृद्धि की है। जिसके बाद कई बैंकों ने MCLR दरों में इजाफा कर दिया है। जिसका सीधा असर लोन और ईएमआई पर पड़ेगा। लोन पर ब्याज दरें बढ़ सकती हैं। और ईएमआई का बोझ जनता को परेशान कर सकता है। कई बैंकों द्वारा निर्धारित की नई दरें 1 मार्च से लागू होने वाले हैं।

12 दिन बैंक रहेंगे बंद

आरबीआई द्वारा जारी किये कलेंडर के मुताबिक मार्च में 12 दिन बैंक बंद रहेंगे। इस महीने होली और नवरात्रि की छुट्टियाँ हैं। साथ ही साप्ताहिक हॉलिडे भी शामिल है। इसलिए बैंक संबंधित अपने सारे काम समय रहते ही निपटा लें।

ट्रेन के नियमों में बदलाव

गर्मी के करण रेलवे ट्रेनों के टाइम-टेबल में बदलाव कर सकता है। मार्च में नया शेड्यूल जारी हो सकती है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 1 मार्च से 10 हजार पैसेंजर ट्रेन और 5 हजार मालगाड़ियों का समय बदला जाएगा।

सोशल मीडिया से जुड़े बदलाव

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के लिए केंद्र सरकार तीन शिकायत अपीलीय समितियाँ बनाने की घोषणा कर दी है। जिससे फेसबुक, इंस्टाग्राम और ट्विटर पर लगाम लगाई जाएगी। 1 मार्च से यह नियम लागू होने वाला है। इन समितियों के जरिए यूजर्स की शिकायतों को मात्र 30 दिनों में निपटाया जाएगा। धार्मिक भावनाएं भड़काने वाले पोस्ट पर नया नियम लागू होगा। जिसके तहत यूजर्स पर जुर्माना भी लगाया जा सकता है।

गैस सिलेंडर से जुड़े नियम

हर महीने की शुरुआत में एलपीजी गैस सिलेंडर के दामों में परिवर्तन होता है। अगले महीने घरेलू गैस सिलेंडरों के भाव में गिरावट का अंदाजा लगाया जा रहा है। वहीं 1 मार्च से गैस सिलेंडर बुकिंग के नियमों में अहम बदलाव हो सकता है।


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News