NTA में बदलाव की तैयारी, केंद्र सरकार ने छात्रों-अभिभावकों से मांगे सुझाव, 7 जुलाई तक ऐसे जमा करें अपनी राय, देखें स्टेप्स

सरकार द्वारा गठित कमिटी ने विस्तृत फीडबैक प्राप्त करने के लिए एक वेबसाइट "innovateindia.mygov.in/examination-reforms-nta" लॉन्च किया है। इस पोर्टल पर जाकर कोई भी व्यक्ति अपनी राय साझा कर सकता है। 

Manisha Kumari Pandey
Published on -
nta ncet 2024

NTA Reforms: नीट यूजी, यूजीसी नेट और अन्य परीक्षाओं को लेकर देशभर में विवाद जारी है। इसी बीच केंद्र सरकार नेशनल टेस्टिंग एजेंसी में बदलाव करने की तैयारी में जुट चुकी है। सरकार ने एनटीए रिफॉर्म को लेकर नया सुझाव पोर्टल (Suggestion Portal) खोला है। साथ ही सभी हितधारकों से एजेंसी की फ़ंक्शनिंग को लेकर सुझाव भी मांगे हैं। छात्र, शिक्षक और अभिभावक 7 जुलाई तक अपनी राय जमा कर सकते हैं।

बता दें कि नीट यूजी और अन्य परीक्षाओं में हुई अनियमितताओं को लेकर एक उच्च स्तर कमिटी का गठन 22 जून 2024 को इसरो के पूर्व अध्यक्ष डॉ के राधाकृष्ण की अध्यक्षता में हुआ था। इसमें सरकारी संस्थाओं, शैक्षणिक संस्थाओं और उच्च शैक्षणिक संस्थाओं के कई सदस्य भी शामिल हैं। समिति का मुख्य उद्देश्य परीक्षा प्रक्रिया और डेटा सिक्योरिटी प्रोटॉकल्स में सुधार लाना है।

फ़ीडबैक के लिए नया वेबसाइट लॉन्च

उपयोक्त उद्देश्यों की पूर्ति के लिए समिति ने विस्तृत फीडबैक प्राप्त करने के लिए एक वेबसाइट “innovateindia.mygov.in/examination-reforms-nta” लॉन्च किया है। इस पोर्टल पर जाकर कोई भी व्यक्ति अपनी राय साझा कर सकता है।

इन थीम पर साझा कर सकते हैं अपना सुझाव 

  • परीक्षा प्रक्रिया तंत्र में सुधार
  • डेटा सुरक्षा प्रोटॉकल में सुधार
  • एनटीए की संरचना और कार्यप्रणाली में सुधार

ऐसे जमा करें अपनी राय 

  • सबसे पहले innovateindia.mygov.in पर जाएं।
  • अब होमपेज पर “Share Your Suggestions on Reforms on’Examination Process” के लिंक पर क्लिक करें।
  • संक्षिप्त में दी गई जानकारी को पढ़ें। अब सबमिट बटन पर क्लिक करें।
  • आपको MyGov अकाउंट में लॉग इन करना होगा। इसके लिए फोन नंबर/ईमेल ऐडु और ओटीपी की जरूरत पड़ेगी।
  • यदि आप नए यूजर हैं तो Sign Up करें।
  • अब एनटीए रिफॉर्म पर अपने सुझाव को लिखें। जरूरी जानकारी दर्ज करें और सबमिट करें।

About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News