Gwalior – रेलवे स्टेशन पर होगी थर्मल स्क्रीनिंग, समारोहों में कोरोना गाइडलाइन का पालन जरूरी

Corona

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। मध्यप्रदेश में फिर से कोरोना के मामले सामने आने के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (cm shivraj singh chouhan) ने प्रदेश के सभी जिलों को सतर्कता बरतने के निर्देश दिये हैं। निर्देशों के बाद ग्वालियर जिला प्रशासन ने क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप (crisis management group) की वर्चुअल बैठक आयोजित की गई। बैठक में समिति के सदस्यों ने अपने अपने सुझाव दिये।

वर्चुअल बैठक में सदस्यों ने सुझाव दिये कि महाराष्ट्र सहित हाल ही में जिन राज्यों व जिलों में कोरोना के मरीज बढ़े हैं वहाँ से आने वाले यात्रियों पर नजर रखी जाए। सभी लोग मास्क लगाएँ एवं सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। शादी समारोह व अन्य कार्यक्रमों में सभी मास्क लगाएँ और आयोजनों में लोगों की संख्या कम रहे। दुकानों के आगे सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो, इसके लिये फिर से गोले बनवाए जाएँ।

कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने बैठक में ऑनलाइन क्राइसेस मैनेजमेंट ग्रुप के सदस्यों के सुझाव सुने और उन्हें भरोसा दिलाया कि जिले में कोविड-19 पर नियंत्रण के लिये आवश्यक एहतियाती कदम उठाए जायेंगे। बैठक में आए सुझावों पर भी अमल कराया जायेगा। साथ ही लोगों को जागरूक करने के प्रयास भी होंगे। उन्होंने कहा जिले में कोरोना गाइडलाइन (corona guideline) का पालन कराने के प्रयास गंभीरता के साथ किए जायेंगे।

बैठक में सांसद विवेक नारायण शेजवलकर, पूर्व मंत्री नारायण सिंह कुशवाह, पूर्व विधायक रमेश अग्रवाल व मदन कुशवाह एवं भूपेन्द्र जैन सहित क्राइसेस मैनेजमेंट कमेटी के अन्य सदस्यों ने वर्चुअल रूप से हिस्सा लिया और अपने सुझाव भी दिए।

कलेक्टर ने बैठक में कहा कि खासतौर पर रेलवे स्टेशन पर आने वाले यात्रियों का तापमान लेने (thermal screening) की व्यवस्था की जायेगी। साथ ही जिले में होने वाले शादी समारोह एवं अन्य आयोजनों में भीड़ कम करने के प्रयास भी किए जायेंगे। आयोजकों को साफतौर पर बताया जायेगा कि कार्यक्रम में सभी लोग अनिवार्यत: मास्क लगाएँ और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए बैठें। कार्यक्रम स्थल पर हैण्ड सेनेटाइजर व हाथ धोने के लिये साबुन-पानी की व्यवस्था भी अनिवार्यत: की जाए। उन्होंने कहा कि जिले में अगर कोविड-19 के प्रकरण बढ़ेंगे तो फिर से क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक आयोजित कर कोविड-19 पर नियंत्रण के लिये आवश्यक कदम उठाए जायेंगे। उन्होंने कहा कि पिछले अनुभव बताते हैं कि प्रदेश के भोपाल व इंदौर शहर में कोरोना मरीज बढ़ने के लगभग एक से दो माह के बाद ग्वालियर में कोरोना का प्रकोप बढ़ा था। इसलिये जिलेवासियों को पूरी तरह सजग, सतर्क व सावधान रहने की जरूरत है।