आईएएस ने बताए उपाय, कोरोना से कैसे कर सकते हैं बचाव

CM Thakur IAS
CM Thakur IAS

अनूपपुर, डेस्क रिपोर्ट। 2012 बैच के आईएएस अधिकारी चंद्र मोहन ठाकुर का एक वीडियो जमकर छा रहा है जिसमें वे कोरोना से बचने के लिए प्राणायाम के माध्यम से तरीके बता रहे हैं। मध्य प्रदेश जनसंपर्क ने भी इसे ट्विटर पर डाला है।

अब एमपी बोर्ड की परीक्षा पर कोरोना का संकट, आज फैसला लेगी सरकार

आईएएस चंद्रमोहन ठाकुर वर्तमान में अनूपपुर जिले के कलेक्टर हैं|देश और प्रदेश में बढ़ते हुए कोरोना संक्रमण को देखते हुए उन्होंने अपने कुछ अनुभव शेयर किए हैं और प्राणायाम के माध्यम से फेफड़ों की शक्ति बढ़ाने के कुछ उपाय बताए हैं। उन्होंने ट्विटर के माध्यम से प्राणायाम के तीन तरीके बताते हुए बताया है कि किस तरह से इनको करने से न केवल हम कोरोना से बच सकते हैं बल्कि अपने फेफड़ों को भी स्वस्थ कर सकते हैं। ठाकुर का यह ट्विटर पर यह वीडियो काफी पसंद किया जा रहा है और लोग उसे देख भी रहे हैं। दरअसल कोरोना की चपेट में सबसे ज्यादा फेफड़े ही आते हैं और फिर संक्रमण होने के बाद में पेशेंट की स्थिति खराब हो जाती है ।ऐसे में यदि योग के माध्यम से इनको स्वस्थ रखने की कोशिश की जाए तो न केवल कोरोना से बचाव होगा बल्कि संक्रमण होने के बाद भी वे इस स्थिति में रहेंगे कि व्यक्ति की जिंदगी बची रहे। कोरोना पेशेंट को भी डॉक्टर योग और प्राणायाम करने की सलाह देते हैं।

चरम पर पहुंच रही कोरोना महामारी, पांच राज्यों में 70% से अधिक एक्टिव मामले

आईएएस चंद्रमोहन ठाकुर के सामाजिक सरोकार से जुड़ने का यह कोई पहला मौका नहीं। पहले भी नौजवानों के लिए नीट और यूपीएससी बीपीएससी परीक्षाओं की तैयारी के लिए प्रेरित करते रहे हैं। फिलहाल कोरोना बचाव के इस वायरल वीडियो की जमकर तारीफ हो रही है।

दमोह : सरकार ने लॉकडाउन से रखा मुक्त तो लोगों ने लगाया जनता कर्फ्यू

कोरोना से बचने प्राणायाम व योग का महत्व
एक्सपर्ट भी कहते है कि बीमारी से लड़ने की क्षमता को बढ़ाने के लिए जरूरी है कि हम अंत:स्रावी ग्रंथियों को सक्रिय रखें, जिसमे थायमस ग्रंथि सबसे प्रमुख है। यह ग्रंथि हमारे हृदय के पास दोनों फेफड़ों के बीच होती है।इस ग्रंथि का मुख्य कार्य टी-सेल T-lymphocytes का निर्माण करना है।टी-सेल शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है और इसके लिए सूर्य नमस्कार नियमित करना जरूरी है।प्राणायाम में अनुलोम-विलोम, भस्त्रिका व कपालभांति का अभ्यास नियमित करना चाहिये।’ॐ’ का उच्चारण कम से कम 5 मिनट तक रोजाना करने से थायमस और पिट्यूटरी ग्लैंड्स मजबूत होती है।