अच्छी खबर : अब होगी रेमडेसिविर की किल्लत कम, रविवार को इंदौर पहुंचे 20 हजार इंजेक्शन

रेमडेसिविर इंजेक्शन की एक बड़ी खेप रविवार को एमजीएम मेडिकल कॉलेज (MGM Medical College) पहुंच गई है। बतादें कि 85% इंजेक्शन प्रदेश के मेडिकल कॉलेज में और 15% जिला अस्पतालो में भेजे जाएंगे।

इंदौर, आकाश धोलपुरे। मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के इंदौर (Indore) में जहां शुक्रवार तक प्रदेश के सबसे बड़े दवा बाजार में रेमडेसिविर इंजेक्शन (Remedicivir Injection) की किल्लत को लेकर हजारो लोगो की कतार लगी हुई थी, जिसके चलते जाम की स्थिति बन गई थी और रेमडेसिविर इंजेक्शन को लेकर हलाकान मचा हुआ था। इतना ही नहीं कई स्थानों पर तो रेमडेसिविर को लेकर कालाबाजारी तक कि बाते जमकर उछली थी, वही लोगो ने तो एक इंजेक्शन को पाने की कोशिश में दिन-रात एक कर दिया था। इसी बीच एक अच्छी खबर सामने आई है। रेमडेसिविर इंजेक्शन की एक बड़ी खेप रविवार को एमजीएम मेडिकल कॉलेज (MGM Medical College) पहुंच गई है। बतादें कि 85% इंजेक्शन प्रदेश के मेडिकल कॉलेज में और 15% जिला अस्पतालो में भेजे जाएंगे।

शनिवार को 5 हजार तो रविवार शाम को 20 हजार की खेप पहुंची
रेमडेसिविर याने वो इंजेक्शन जो कोविड के बढ़ते संक्रमण के बाद किसी भी मरीज की क्रिटिकल कंडीशन (Critical condition) में रामबाण साबित होती है। उसी इंजेक्शन की पहली खेप शनिवार को इंदौर के एमजीएम कॉलेज पहुंची थी। वही दूसरी खेप रविवार शाम को पहुंची। दरअसल, इंदौर सहित प्रदेश के अन्य शहरों में रेमडेसिविर इंजेक्शन की किल्लत के चलते कोविड मरीजो के परिजनों की आफत बढ़ गई थी। लेकिन दो दिन में 25 हजार इंजेक्शन आने के बाद अब न सिर्फ इंदौर बल्कि प्रदेश के अन्य शहरों में भी मरीजो और उनके परिजनों ने राहत की सांस ली होगी।

अच्छी खबर : अब होगी रेमडेसिविर की किल्लत कम, रविवार को इंदौर पहुंचे 20 हजार इंजेक्शन

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल (Bhopal) से 20 हजार इंजेक्शन की खेप इंदौर पहुंची है। इस बात की पुष्टि एम.जी.एम. कॉलेज के डीन डॉ. संजय दीक्षित ने की है। उन्होंने बताया कि लगभग 5 हजार इंजेक्शन पहले आये थे और रविवार को लेट इवनिंग में 20 हजार इंजेक्शन और आये है। इसमे शासन का एक डिस्ट्रीब्यूशन प्लान है उस प्लान के आधार पर रेमडेसिविर मध्यप्रदेश के विभिन्न अस्पतालों में दिए जाएंगे। मेडिकल कॉलेज के डीन ने बताया कि प्रदेश के 13 मेडिकल कॉलेज और जिला अस्पतालों में ये इंजेक्शन भेजे जाएंगे।

फिलहाल, ये इंदौर सहित समूचे प्रदेश के लिए राहत वाली बात है कि रेमडेसिविर इंजेक्शन इंदौर पहुंच गए है और अब इंदौर में जरूरत के हिसाब से कितने इंजेक्शन किन अस्पतालों को वितरित किये जायेंगे इसकी एक रिपोर्ट गूगल चिप के जरिये बनाई जाएगी और उसी आधार पर उनका वितरण भी किया जाएगा। सूत्रों की माने तो आने वाले एक – दो दिन में और भी बड़ी खेप में इंजेक्शन इंदौर के एम.जी.एम. को मिल सकते है क्योंकि भारत सरकार ने रेमडेसिविर के निर्यात पर रोक लगा दी है।

यह भी पढ़ें….बालाघाट जिले में कोरोना का धमाका, एक ही दिन में मिले 145 नए कोरोना पॉजिटिव