भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। पिछले दो वर्षों से पूरा विश्व कोरोना (Corona)  महामारी से जूझ रहा है, वहीं कोरोना वायरस की दूसरी लहर का कहर अभी पूरी तरह से खत्म नहीं हुआ है। इस बीच कोरोना वायरस के दो नए वैरिएंट (Variant) ने चिंता बढ़ा दी है। इससे पहले कोरोना वायरस के डेल्टा प्लस वैरिएंट मामले की पुष्टि हुई थी। अब कोरोना वायरस के कप्पा वैरिएंट ने भी दस्तक दे दी है। ताज़ा मामला उत्तर प्रदेश के संतकबीरनगर जिले का है जहां दो संक्रमितों में ‘कप्पा वैरिएंट’ के लक्षण पाए गए हैं। विशेषज्ञों ने डेल्टा प्लस वैरिएंट को अधिक खतरनाक बताया है। कोरोना वायरस के डेल्टा वैरिएंट के चलते देश में कोरोना की दूसरी लहर आई हैं। इस मद्देनजर सरकार कोरोना महामारी की तीसरी लहर टालने के लिए पर्याप्त कदम उठा रही है।

ये भी देखें- क्या आपके आसपास हवा में है कोरोना? इस CSIR Device से चलेगा पता!

जानें क्या है कप्पा वैरिएंट-

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस के स्ट्रेन का नाम ग्रीक अल्फाबेटिकल लेबल्स (Greek alphabetical labels) पर रखा है। इस कड़ी में भारत में कोरोना वायरस के वैरिएंट स्ट्रेन का नाम डेल्टा और कप्पा पर रखा जाता है। डेल्टा प्लस वैरिएंट जो अन्य की तुलना में 60 फीसदी अधिक संक्रामक है उसे बी.1.617.2 स्ट्रेन कहा जाता है। वहीं, कप्पा वेरिएंट को बी.1.617.1 का कहा जाता है। ऐसा माना जाता है कि इस स्ट्रेन की पहचान पिछले साल हुई थी।

केंद्रीय मंत्री Scindia को Bombay Highcourt के निर्देश- जल्द से जल्द पूरा हो ये काम

क्या हैं प्पा वैरिएंट के लक्षण?

डेल्टा प्लस वैरिएंट की तरह कप्पा वैरिएंट में भी संक्रमितों में खांसी, बुखार, दस्त, स्वाद चला जाना, गले में खराश, सांस लेने में तकलीफ जैसे लक्षण देखे जा सकते हैं। हालांकि, यह म्यूटेंट्स भी हो सकते हैं। इसके लिए मामूली लक्षण दिखने पर तत्काल डॉक्टर से सलाह लें।

ये भी देखें- MP News: Scindia से इस बड़ी मांग की तयारी में KP

बचाव के तरीके

कोरोना वायरस से बचाव के लिए प्रमुख हथियार मास्क, दो गज की दूरी और साफ सफाई हैं। अनावश्यक घर से बाहर न निकलें। किसी कारणवश घर से बाहर निकलते हैं, तो सर्जिकल मास्क पहनकर निकलें। शारीरिक दूरी का पालन करें। साफ-सफाई का विशेष ख्याल रखें। इम्यून सिस्टम मजबूत करने पर विशेष ध्यान दें। कोरोना वैक्सीन जरूर लगवाएं। कोरोना वायरस के लक्षण दिखने पर खुद को आइसोलेट कर जांच कराएं।