Bhopal : जामा मस्जिद में मंदिर होने का दावा, संस्कृति बचाओ मंच ने गृहमंत्री नरोत्तम को सौंपा ज्ञापन, पुरातत्व सर्वेक्षण कराने की मांग

संस्कृति बचाओ मंच ने आज यहां पर गृहमंत्री को ज्ञापन देकर पुरातत्व विभाग से सर्वेक्षण की मांग की।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। देश के कई मस्जिदों (Mosque) में मंदिर (temple) होने के दावे और हिंदू धर्म स्थल को लेकर चर्चाएं जारी है। कई मामले सुप्रीम कोर्ट (supreme court) और हाई कोर्ट (high court) में लंबित हैं। इसी बीच अब राजधानी भोपाल (Bhopal) में जामा मस्जिद में मंदिर होने का दावा किया गया है। इस मामले में संस्कृति बचाओ मंच ने गृह मंत्री Narottam Mishra से मुलाकात कर उन्हें ज्ञापन सौंपा है। वही संस्कृति बचाओ मंच (save culture forum) ने जामा मस्जिद में पुरातत्व सर्वेक्षण कराने की मांग की है।

संस्कृति बचाओ मंच के अध्यक्ष चंद्रशेखर तिवारी के नेतृत्व में गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा को भोपाल चौक बाजार स्थित जामा मस्जिद में शिव मंदिर होने का दावा करते हुए पुरातत्व विभाग से सर्वेक्षण कराने की मांग की है। चन्द्रशेखर तिवारी ने कहा कि भोपाल की आठवीं शासिका कुदेशिया बेगम ने अपनी आत्मकथा हयात ए कूदीस में यह उल्लेख किया है कि भोपाल की जामा मस्जिद में शिव मंदिर तोड़कर मस्जिद का निर्माण कराया गया है।

Read More : ज्ञानवापी परिसर मामलें में टिप्पणी करना MP में पड़ सकता है भारी- गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा की नसीहत

मंच का यह भी कहना है कि उन्होंने यह भी उल्लेख किया है कि इस मस्जिद का निर्माण 1832 ईसवी में प्रारंभ होकर 1857 ईसवी में पूर्ण हुआ और 500000 की राशि निर्माण कार्य में लगी थी। कुदेशिया बेगम ने यह भी उल्लेख किया कि यहां पर एक विशाल काय शिव मंदिर था। जिससे तोड़कर मस्जिद का निर्माण किया गया है। संस्कृति बचाओ मंच ने आज यहां पर गृहमंत्री को ज्ञापन देकर पुरातत्व विभाग से सर्वेक्षण की मांग की।

साथ ही हम कोर्ट में याचिका दायर करने जा रहे हैं। जिससे कि दूध का दूध और पानी का पानी सामने हो जाएगा। देश में 3 मस्जिदें सबके सामने है। मथुरा काशी और अयोध्या। अयोध्या का निर्णय आ चुका है। ज्ञानवापी में साक्षी मिलना प्रारंभ हो गए हैं। श्री कृष्ण जन्मभूमि में भी मंदिर तोड़कर मस्जिद बनाई गई है लेकिन 30,000 मस्जिदों की लिस्ट और है।

मंच का कहना है कि चाहे वह जामा मस्जिद चौक भोपाल की हो। उज्जैन की मस्जिद हो या विदिशा की मस्जिद। ऐसे कई धर्म स्थल हैं। जिन्हें की तोड़कर मस्जिद का निर्माण किया गया है। संस्कृति बचाओ मंच मुस्लिम धर्मावलंबियों से मांग करता है कि वह बड़ा दिल करके इन धर्म स्थलों को हिंदू समाज को सपने पर स्वागत योग्य निर्णय ले।