शिवराज कैबिनेट की बड़ी बैठक आज, इन मुद्दों पर होगी विशेष चर्चा, कई प्रस्तावों को मिलेगी मंजूरी

जिसके बाद अब नियम में संशोधन की तैयारी की जा रही है।

सीएम शिवराज

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट।   मध्यप्रदेश में आज शिवराज कैबिनेट (MP Shivraj cabinet) की बड़ी बैठक आयोजित की जाएगी। इस बैठक (Shivraj cabinet Meeting) में एक तरफ जहां महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा की जाएगी। वहीं कई अहम प्रस्तावों को मंजूरी मिल सकती है। राज्य सरकार द्वारा Retired लोकायुक्त और उप लोकायुक्त को भी परिवार पेंशन (family pension) की सुविधा दी जा सकती है। इसके लिए नियम में संसोधन पर चर्चा होगी।

इसके लिए शिवराज कैबिनेट लोकायुक्त और उप लोकायुक्त नियम 1982 में संशोधन प्रस्ताव को मंजूरी दे सकती है। इस प्रस्ताव को मंजूरी मिलने के साथ ही लोकायुक्त व उप लोकायुक्त को रिटायरमेंट के बाद पारिवारिक पेंशन की सुविधा मिलेगी। इस संबंध में जबलपुर हाईकोर्ट में 2015 में निर्देश दिए गए थे कि लोकायुक्त-उप लोकायुक्त की सेवा शर्त उच्च न्यायालय के न्यायाधीश की सेवा शर्त 1954 के अनुसार होनी चाहिए। हालांकि राज्य शासन द्वारा अभी कोई निर्णय नहीं लिया गया है। इस मामले में तीन याचिका अभी कोर्ट में लंबित है। जिसके बाद अब नियम में संशोधन की तैयारी की जा रही है।

इसके अलावा इस बैठक में कैंसर के मरीजों (cancer patient) को बड़ी राहत दी जा सकती है। सरकार द्वारा मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल, इंदौर और मेडिकल कॉलेज के लीनियर एक्सीलेटर से कैंसर मरीजों का इलाज शुरू करने की योजना को मंजूरी दी जा सकती है।

बता दें कि प्रदेश में अब तक मेडिकल कॉलेज से संबंधित अस्पतालों में कैंसर के मरीजों का इलाज कोबाल्ट मशीन से किया जाता है। जिसके बाद लीनियर एक्सीलेटर के जरिए अब कैंसर के मरीजों को इलाज की सुविधा दी जाएगी। ऐसे में एक तरफ जहां मरीजों को रेडिएशन से होने वाले साइड इफेक्ट से छुटकारा मिलेगा। वही मशीन कैंसर सेल्स को भी टारगेट कर उसे कम करने का काम करेगी।

Read More : MP में तेजी से बढ़ रहे केस, कलेक्टर की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव, परिवार के अन्य सदस्य भी हुए संक्रमित

इस मामले में चिकित्सा शिक्षा विभाग के प्रस्ताव में कहा गया है कि प्रदेश में 13 लीनियर एक्सीलेटर उपकरण उपलब्ध कराए गए हैं। नई टेक्निक पर आधारित इस उपकरण को मात्र एक AIIMS में चालू किया गया है। जिसके बाद मरीजों को इलाज के लिए प्राइवेट अस्पतालों के चक्कर काटने पड़ते हैं। इस योजना को कैबिनेट में मंजूरी मिलने के बाद कैंसर मरीजों का इलाज राज्य के अंदर ही आसानी से किया जा सकेगा। इससे उन पर अतिरिक्त बोझ भी नहीं बढ़ेगा।

वही शिवराज कैबिनेट में यदि इस प्रस्ताव को मंजूरी मिलती है तो राजधानी भोपाल इंदौर रीवा के मेडिकल कॉलेज से संबद्ध अस्पतालों में लीनियर एक्सीलेटर की स्थापना पीपीपी के तहत की जाएगी और इससे कैंसर के मरीजों का इलाज शुरू किया जाएगा। इसके अलावा मंगलवार को होने वाली शिवराज कैबिनेट की बैठक में पशु नस्ल विकास, रोजगार सृजन पशुओं की उत्पादन क्षमता को बढ़ाने सहित नवीन पशुधन मिशन के क्रियान्वयन पर निर्णय लिया जा सकता है। साथ ही बालाघाट कमर्शियल टैक्स डिपार्टमेंट की प्रॉपर्टी को बेचने की अनुमति देने पर भी विचार किया जाएगा।