इंदौर, आकाश धोलपुरे। क्या आपने सोचा है कि किसी बस में आपके साथ किसी लाश ने सफर किया है लेकिन यूपी से एमपी तक कि यात्रा में ये सबकुछ मुमकिन हुआ है। दरअसल, जो जानकारी सामने आई है उसके मुताबिक एक बस के लापरवाह ड्रायवर की करतूत के चलते ये सबकुछ संभव हुआ जो कुछ क्षण के लिए आपको असहज और असंभव सा लग सकता है। हुआ यूं कि उत्तरप्रदेश के महरौनी से एक यात्री अम्बे ट्रेवल्स की बस में सवार होकर इंदौर पहुंचने की चाह में बैठा था लेकिन जब बस खुरई में नाश्ता पानी के लिए रोकी गई तब एक दुर्घटना हो गई।

दरअसल, बस जब खुरई से इंदौर के लिए निकलने लगी तब ही ड्रायवर ने बस को आगे पीछे किया इसी दौरान यात्री बस के पैर बस की चपेट में आ गए और यात्री गम्भीर रूप से घायल हो गया। इसके बाद घबराए ड्रायवर ने उस यात्री का प्राथमिक इलाज करवा दिया हालांकि इस दौरान यात्री को वहां अस्पताल में भर्ती करने से मना कर दिया गया। जिसके बाद लापरवाह बस ड्राइवर ने कही और प्रयास करने के बजाय बस इंदौर की तरफ दौड़ा दी लेकिन इसी बीच सोनकच्छ पहुंचने के दौरान यात्री की मौत हो गई।

वही ड्रायवर इस बात से बेपरवाह होकर बस को इंदौर की और ले आया क्योंकि उसे भी इस बात का गुमान शायद ही होगा जो जिंदगी को वो यूपी से लेकर चला था एमपी पहुंचने के बाद एक लाश में तब्दील हो जायेगी। हालांकि, इंदौर में पुलिस ने इस लापरवाही के मामले में प्रकरण दर्ज कर लिया है।

Read More: MP Politics: जयवर्धन के लिए इस तैयारी में दिग्विजय! Kamalnath के लिए बनेंगे चुनौती

मृतक के भतीजे अरविंद साहू ने बताया कि उसके चाचा हीरालाल साहू उत्तरप्रदेश के महरौनी अपनी बहन से मिलने गए थे और वहां से वो अम्बे ट्रेवल्स की बस में इंदौर के बैठे थे। बस खुरई स्थित होटल में नाश्ते के लिए रुकी उसी दौरान ड्रायवर ने गाड़ी आगे पीछे की और बस हीरालाल साहू पर चढ़ा दी। जिसके चलते उनके दोनों पैर खराब हो गए और वहां उन्हें अस्पताल ले जाया गया और अस्पताल में पट्टी बांधकर डॉक्टर्स ने कहा कि आप घायल को इंदौर ले जाये यहां हम कुछ नही कर पाएंगे। मृतक के परिजनों की माने तो इंदौर आते समय मे वो सोनकच्छ में मृत हो गए।

इसके बाद बस वाले से मिन्नते करने के बाद बस से हीरालाल साहू का शव इंदौर लाया गया। परिजनों ने मौत का दोषी बस कंपनी और ड्रायवर को बताया और कहा कि 400 किलोमीटर का सफर कर बस इंदौर पहुंची लेकिन उनके परिवार के अहम सदस्य अब इस दुनिया मे नही है। वही परिजनों का आरोप ये भी है उन्हें इस बात की सूचना बस संचालक और ना ही ड्रायवर ने दी बल्कि अन्य शख्स ने इस बात की जानकारी दी।

इधर, इस मामले में लसूड़िया पुलिस इंदौर ने कार्रवाई कर ड्रायवर को हिरासत में लेकर बस को जब्त कर लिया है वही जीरो पर एफआईआर दर्ज कर खुरई के संबंधित थाने को मामला सौंपने की तैयारी शुरू कर दी है। कुल मिलाकर इस हैरतअंगेज मामले के सामने आने के बाद बस ड्राइवर पर कई सवाल उठ रहे है जिनके जबाव अब पुलिस तलाशेगी ताकि ये पता चल सके कि आख़िरकार कैसे और कब यात्री की मौत हुई और उस वक्त बस में कितने लोग मौजूद थे।