मप्र में सियासी पारा तेज, बड़े नेताओं की बैठक में BJP की खास तैयारी

अब देश भर के बड़े BJP नेताओं द्वारा बैठक और नीति नियम तय किए जाने की तैयारी कर ली गई है।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (madhya pradesh) में सियासी पारा एक बार फिर से चढ़ता नजर आ रहा है। हालांकि इस बार इसका केंद्र (center) प्रदेश ना होकर बंगाल (bengal) को बनाया जा रहा है। माना जा रहा है कि बंगाल में केंद्र सरकार को लेकर बढ़ रहे तनाव के बीच पूरे देश से BJP बीजेपी कार्यकर्ता एकजुट होने की तैयारी में है। इसी बीच प्रदेश में लगातार बड़े नेताओं की बैठक जारी है।

पिछले दिनों कैलाश विजयवर्गीय (Kailash vijayvargiya) की गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा (narottam mishra) से 1 घंटे मुलाकात की गई थी। हालांकि इस बैठक के बाद नरोत्तम मिश्रा ने कहा था की राजनीति के ऊपर किसी भी तरह की चर्चा नहीं की गई है। कैलाश विजयवर्गीय काफी दिन के बाद मध्य प्रदेश पहुंचे थे तो यह सिर्फ एक निजी मुलाकात थी। नरोत्तम मिश्रा (narottam mishra) से मुलाकात के बाद मंगलवार को मध्य प्रदेश BJP की बैठक आयोजित की गई। जिसमें राष्ट्रीय महामंत्री शिव प्रकाश के अलावा मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (shivraj singh chauhan), नरोत्तम मिश्रा और चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग (visvas sarang) भी शामिल हुए। बैठक की जानकारी देते हुए विधायक कृष्णा गौर (krishna gaur) ने कहा कि पश्चिम बंगाल में बीजेपी कार्यकर्ताओं के साथ हिंसक व्यवहार किए जा रहे हैं। जो की असहनीय है। बंगाल जीत के बाद ममता सरकार और क्रूर दिखाई दे रही है।

Read More: MP Board: रद्द होगी 12वीं की परीक्षा! बोले स्कूल शिक्षा मंत्री- बड़ा फैसला आज

ऐसी स्थिति में BJP कार्यकर्ताओं का संबल देने और उनका बल बनने के लिए लॉकडाउन (lockdown) खत्म होने के बाद 15 जून को मध्यप्रदेश के नेता बंगाल कूच करेंगे। बंगाल के कार्यकर्ताओं में अभी मर्दानगी जारी है और उन्हें सहारा देने की जरूरत है। इस मामले में विधायक कृष्ण गौर ने बताया कि पश्चिम बंगाल में अब तक 35 से अधिक बीजेपी कार्यकर्ताओं की मौत हो चुकी है। ममता सरकार द्वारा लगातार बीजेपी कार्यकर्ताओं को धमकाया जा रहा है। उनका मनोबल तोड़ा जा रहा है। इसलिए पूरे देश के बीजेपी कार्यकर्ताओं को उनके साथ खड़े होने की जरूरत है। बीजेपी कार्यकर्ताओं के लिए हम हर संभव प्रयास करेंगे।

ज्ञात हो कि पश्चिम बंगाल में चुनाव के दौरान ममता (mamata) को घेरने के लिए बीजेपी ने प्रयास किए थे। बावजूद इसके एक बार फिर ममता की सरकार (mamta government) को बंगाल अपने खुटे में वापस ले आया। बंगाल में ममता दीदी को घेरने के लिए मध्य प्रदेश के कई बड़े नेता की भूमिका भी अहम रही थी। हालांकि इस चुनाव में अच्छी बात यह रही कि 1 अंक पर रहने वाली बीजेपी ने 2 अंक की सीटों पर कब्जा कर लिया।

हालांकि ममता बनर्जी के द्वारा सत्ता संभालने के बाद बीजेपी में हिंसा का माहौल है। जिसके बाद अब बीजेपी द्वारा देशव्यापी माहौल तैयार किया जा रहा है। वही सत्ता संभालने के बाद ममता सरकार लगातार केंद्र सरकार पर हावी होने की कोशिश में है। इसके कई प्रमाण अब तक देखे जा चुके हैं। जिस पर अब देश भर के बड़े BJP नेताओं द्वारा बैठक और नीति नियम तय किए जाने की तैयारी कर ली गई है। 15 जून के बाद यह सभी नेता बंगाल कूच करेंगे और वहां बीजेपी कार्यकर्ताओं सहित आम जनता पर हो रहे हिंसक व्यवहार को लेकर ममता सरकार पर निशाना बनाएंगे।