MP नगरीय निकाय चुनाव : दूसरे चरण का मतदान संपन्न, शाम 5 बजे तक 72 फीसद मतदान, जानें पल पल की जानकारी

सुबह 7:00 बजे से ही मतदाता केंद्र पर पहुंचने लगे थे। वहीं मतदान की प्रक्रिया शाम 5:00 बजे तक आयोजित की गई।

mp nagriya nikay chunaav 2022

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश में आज नगर निकाय चुनाव के दूसरे और अंतिम चरण (MP Urban body Election Last phase voting) का मतदान संपन्न हो चुका है। दरअसल, आज नगर निगम मतदान के लिए लोगों (Voters) में खासा उत्साह देखा गया। लेकिन अब 40 नगर पालिका परिषद और 169 नगर परिषदों में मतदान की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है। सुबह 7:00 बजे से ही मतदाता केंद्र पर पहुंचने लगे थे।

    Share

    शांतिपूर्ण मतदान निपटने के बाद अब उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला 20 जुलाई को होगा। इस दौरान राज्य निर्वाचन आयुक्त द्वारा लोगों से बढ़-चढ़कर मतदान में हिस्सा लेने की अपील की गई थी। दूसरे चरण में कुल पार्षदों में 629 प्रत्याशी और महापौर के लिए 6 महिला प्रत्याशी मैदान में थे।

    Read More : MP शिक्षकों के लिए महत्वपूर्ण खबर, विभिन्न पदों पर होगी भर्ती, नियमित नियुक्ति देने की तैयारी

    मुरैना में कुल 379 केंद्र बनाए गए हैं। जिनमें से 216 को संवेदनशील घोषित किया गया है। संवेदनशील मतदान केंद्रों पर हथियारबंद सुरक्षा टीम के अलावा CCTV कैमरे और उनकी निगरानी की जा रही है। इसके अलावा पुलिस के साथ SaF की चार कंपनियों की भी तैनाती की गई है। महाकौशल विंध्य के जिलों में भी मतदान शुरू कर दिया गया। कटंगी मझौली पाटन से पूरा नगर परिषद में बदलने की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। सुबह 7:00 बजे से ही मतदाता मतदान केंद्रों पर पहुंच गए। सिवनी छपारा और केवलारी नगर परिषद में ईवीएम से मतदान किया जा रहा है।

    इधर बालाघाट के निकाय चुनाव के दूसरे चरण के लिए भी इतनी निकाय में मतदाता मताधिकार का प्रयोग कर रहे हैं। रतलाम और देवास नगर निगम सहित मालवा निमाड़ के अन्य निकायों में भी मतदान शुरू कर दिया गया है। सतना के 6 नगरी निकाय में 100000 से अधिक मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। सतना जिले में दूसरे चरण में मेहर नागौर रामनगर सहित कोटर में 158 मतदान केंद्रों पर मतदान की प्रक्रिया पूर्व की शुरू की गई है।

    बता दे अंतिम चरण के लिए 6829 मतदान केंद्र बनाए गए। जिनमें से 1627 मतदान केंद्रों को संवेदनशील घोषित किया गया है। वहीं इन मतदान केंद्रों पर पुलिस की सुरक्षा तैनात की गई है। मतदान दलों में लगभग 34000 अधिकारी कर्मचारियों को शामिल किया गया है।