भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। इन दिनों राहुल गांधी (rahul gandhi) की आक्रामक शैली चर्चा का विषय बनी हुई है। दरअसल पहली बार राहुल गांधी ने ZOOM उपयोग कर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग (video conferencing) के जरिए कांग्रेस सोशल मीडिया विभाग के 3500 से अधिक पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। इस दौरान अपनी आक्रामकता को बरकरार रखते हुए राहुल गांधी ने पार्टी छोड़ BJP सहित अन्य पार्टी में शामिल होने वालों पर जमकर निशाना साधा। राहुल गांधी ने कहा कि कांग्रेस पार्टी (congress part) में डरपोक लोगों की जगह नहीं है और जो डर रहे हैं। वह पार्टी छोड़ सकते हैं।

राहुल गांधी ने अपने बयान विवाद पैदा कर दिया हैं। उन्होंने कहा कि जो लोग डर रहे हैं, वह पार्टी छोड़कर RSS में शामिल हो जाए और RSS में जाकर उसका आनंद ले हम उन्हें पार्टी में नहीं चाहते हैं और ना ही कांग्रेस को उनकी जरूरत है हमें निडर लोग चाहिए। यही हमारी विचारधारा है और यही हमारा मूल संदेश है।

Read More: नगरीय निकाय चुनाव: आखिर कब तक होंगे नगरीय निकाय के चुनाव! क्या है कानूनी अड़चने!

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा कि जो लोग वास्तविकता का सामना करने से डरते हैं। वह कांग्रेस पार्टी छोड़ने के लिए स्वतंत्र हैं। कांग्रेस के अंदर निडर नेताओं को लाया जाना चाहिए। राहुल गांधी ने कहा कि जो डरते थे, उन्होंने पार्टी छोड़ दी और RSS में शामिल हो गए हैं हालांकि राहुल गांधी नाम नहीं लिया लेकिन इसका सीधा-सीधा निशाना ज्योतिरादित्य सिंधिया (jyotiraditya scindia) और जितिन प्रसाद (jitin prasad) पर माना जा रहा है।

ज्योतिरादित्य सिंधिया-जितिन प्रसाद के अलावा महाराष्ट्र कांग्रेस के नेता नारायण राणे और राधाकृष्ण विखे पाटील ने भी कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया था। वहीं चर्चा के दौरान राहुल गांधी ने कहा कि कार्यकर्ता राहुल गांधी से बात करने से ना हिचके, ना डरे क्योंकि वह कांग्रेस परिवार का हिस्सा है। हालांकि राहुल गांधी के अध्यक्ष बयान के बाद अब से ऐसे तेज हो गई है। BJP सहित RSS से जुड़े विचारधारा के लोगों नेताओं द्वारा राहुल गांधी पर कटाक्ष का सिलसिला शुरू हो गया है।