प्रदेश से 31 स्पेशल ट्रेनों का होगा परिचालन, अन्य राज्य में फंसे लोग वापस आएंगे घर

भोपाल।

मध्यप्रदेश(madhya pradesh) में सोमवार से लॉकडाउन(lockdown) का तीसरा चरण शुरू होने वाला है। लगातार बढ़ रहे संक्रमित मामले और लॉकडाउन के बीच राज्य के बाहर फंसे लोगों को वापस लाने के लिए शिवराज(shivraj) सरकार ने रेल मंत्रालय(rail ministry) को 31 स्पेशल ट्रेन(special train) चलाने का प्रस्ताव भेजा है। वही शिवराज सरकार ने उम्मीद जताई है कि जल्दी अन्य राज्य से मजदूर हमारे राज्य वापस आएंगे। इसी के साथ उन्होंने कहा है कि उन मजदूरों से किराया भी नहीं वसूला जाएगा।

रविवार को हुई बैठक के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान(CM shivraj singh chouhan) ने जानकारी देते हुए बताया कि प्रदेश से अब 31 ट्रेन अन्य राज्य में फंसे हुए प्रदेश के लोगों को वापस जाने के लिए भेजी जाएगी। वहीं उन्होंने सख्त निर्देश दिए हैं कि किसी भी मजदू(labour)र से किराया ना लिया जाए। जिसके बाद अपर मुख्य सचिव आईसीपी केसरी ने बताया कि जिन 31 ट्रेन का परिचालन प्रदेश से किया जाएगा उसका प्लान(plan) रेल मंत्रालय को भेजा गया है। जिनमें से 22 ट्रेन महाराष्ट्र(maharashtra) से, दो गुजरात(gujrat) से, दो गोवा(goa), एक दिल्ली(delhi) और 4 ट्रेन आने प्रदेश मध्य प्रदेश के नागरिक एवं मजदूरों को वापस प्रदेश लेकर आएगी। बता दें कि आम नागरिक इसमें सफल नहीं कर पाएंगे इन स्पेशल ट्रेनों में केवल वे ही यात्री सफर कर पाएंगे जो सरकार द्वारा चयनित एवं पंजीकृत(registered) होंगे। इसके अलावा अन्य किसी नागरिक को रेलवे स्टेशन आने की अनुमति नहीं होगी।

गौरतलब हो कि राज्य सरकारों की मांग के बाद केंद्र सरकार ने देशभर में अन्य राज्य में फंसे हुए लोगों को वापस लाने की मुहिम के तहत पूर्व में छह स्पेशल ट्रेनों की मंजूरी दी थी। जहां सरकार द्वारा चयनित लोगी अपने घर वापस पहुंच रहे थे। इस बीच अब मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार ने 31 स्पेशल ट्रेन का प्रस्ताव रेल मंत्रालय को भेजा है। वह इन ट्रेनों में सफर करने से पूर्व हर व्यक्ति को सरकार द्वारा जारी नियमों का पालन करना होगा। यात्रा के दौरान हर यात्री को मास्क पहनने के साथ-साथ उन्हें सरकार द्वारा सैनिटाइजर भी उपलब्ध कराए जाएंगे। वह यात्रा कर रहे यात्री को सफर करते वक्त खाने की उचित व्यवस्था भी राज्य सरकार करेगी।