MP Board : 10वीं-12वीं के छात्रों को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज ने दिए ये निर्देश, 42 हजार को मिलेगा लाभ

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chauhan) ने जनजातीय छात्रावास शीघ्र प्रारंभ करने के निर्देश दिए हैं।

रोजगार

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश में माध्यमिक शिक्षा मंडल (Board of Secondary Education) द्वारा आयोजित होने वाली 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं (MP Board Exam) शुरु होने से पहले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का बड़ा बयान सामने आया है। मुख्यमंत्री का कहना है कि कक्षा 10वीं तथा 12वीं की बोर्ड तथा महाविद्यालयीन परीक्षाओं को ध्यान में रखते हुए जनजातीय वर्ग के विद्यार्थियों (Student) को आवासीय सुविधा उपलब्ध कराने के उद्देश्य से छात्रावासों का संचालन आरंभ किया जा रहा है।

यह भी पढ़े… MP Board : 10वीं-12वीं के छात्रों के लिए बड़ी खबर, फिर से तैयार होंगे प्रश्नपत्र और ब्लू प्रिंट

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chauhan) ने जनजातीय छात्रावास शीघ्र प्रारंभ करने के निर्देश दिए हैं, जिसमें छात्रावासों (Hostels) में कोविड-19 से बचाव के लिए आवश्यक सावधानियों का पालन अनिवार्य होगा। इस निर्णय से विद्यालय स्तर के सामान्य छात्रावास और आवासीय विद्यालयों के कक्षा 10वीं एवं 12वीं के लगभग 34 हजार तथा महाविद्यालयीन (College) स्तर के 8 हजार विद्यार्थी लाभान्वित होंगे।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कोविड-19 को ध्यान में रखते हुए छात्रावासों में साफ-सफाई, स्वच्छता तथा सोशल डिस्टेंसिंग सुनिश्चित करने के उद्देश्य से छात्रावासों में कक्षा 10वीं एवं 12वीं के विद्यार्थियों को ही रहने की अनुमति दी जाएगी। यह सुविधा 9वीं तथा 11वीं के विद्यार्थियों के लिये नहीं होगी। आश्रम, जूनियर छात्रावासों को अभी नहीं खोला जाएगा। छात्रावासों में रहने के लिए अभिभाविकों की सहमति आवश्यक होगी।प्रत्येक छात्रावास में पृथक से एक कोरिन्टाइन रूम बनाया जाएगा।

यह भी पढ़े… सरकारी कर्मचारियों को लेकर सरकार का बड़ा फैसला, आदेश जारी

इसके अलावा छात्रावासों में कोविड-19 से बचाव के लिए लागू गाईड लाइन का पालन सुनिश्चित कराने के लिए छात्रावास अधीक्षकों का स्वास्थ्य विभाग (health Department) के सहयोग से प्रशिक्षण कराया जाएगा। प्रत्येक छात्रावास निकटतम शासकीय स्वास्थ्य केन्द्र के साथ संबद्ध किया जाएगा। स्वास्थ्य केन्द्र के चिकित्सक का मोबाइल (Mobile) नम्बर छात्रावास के सूचना पटल पर लिखा जाएगा। छात्रावासों में नियमित स्वास्थ्य परीक्षण की व्यवस्था होगी।सभी संभागीय, जिला तथा विकासखंड स्तर के अधिकारियों और प्राचार्यों को छात्रावासों का नियमित रूप से निरीक्षण करने के निर्देश भी दिए गए हैं।

बता दे कि प्रदेश में 1195 सीनियर छात्रावास, 152 महाविद्यालयीन छात्रावास, 126 विशिष्ट संस्थाएँ जैसे आवासीय विद्यालय, कन्या शिक्षा परिसर, एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय तथा गुरूकुलम विद्यालय जनजातीय कार्य विभाग द्वारा संचालित हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here