शिवराज सिंह चौहान

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। एक तरफ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chauhan) ने स्वरोजगार व कृषक उद्यमी योजना (Self Employment and Farmer Entrepreneur Scheme)पर ब्रेक लगा दिया है वही दूसरी युवाओं को लेकर बड़ी सौगात दी है। मुख्यमंत्री ने ऐलान किया है कि जनजातीय बहुल क्षेत्रों में कॉलेज खोले जाएंगे।

यह भी पढ़े… विवादों में घिरा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का यह आदेश, वापस लेने की मांग

दरअसल, रविवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सीहोर जिले (Sehore District) की नसरूल्लागंज तहसील के ग्राम लाड़कुई में 65 लाख रूपए की लागत से बनाए गए शासकीय स्नातक महाविद्यालय (Government graduate college) के नवनिर्मित भवन का लोकार्पण किया।इस दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि अब जनजातीय बच्चों को उच्च शिक्षा के लिए बाहर नहीं जाना पड़ेगा। जनजातीय बहुल क्षेत्रों में कॉलेज  खोले (Colleage Open) जाएंगे।

यह भी पढ़े… आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के लिए शिवराज सरकार का बड़ा फैसला

शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि लाड़कुई में अब 30 कमरों का महाविद्यालय भवन बनकर तैयार है। इससे लाड़कुई सहित आस-पास के छात्रों (Student) की कॉलेज की पढ़ाई (Study) आसान हो जाएगी। अब बच्चों को उच्च शिक्षा (Higher Education) के लिए सीहोर, नसरूल्लागंज अथवा भोपाल (Bhopal) नहीं जाना पड़ेगा। जनजातीय बच्चों की उच्च शिक्षा के लिए आवश्यक सभी सुविधाएँ शासन द्वारा प्रदान की जाएंगी।

नए साल से लगेंगी बी.एससी. और बी.कॉम कक्षाएं 

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि अगले वर्ष से लाड़कुई महाविद्यालय में बी.एससी. एवं बी.कॉम की कक्षाएं भी प्रारंभ हो जाएंगी। उन्होंने कहा कि यह केवल भवन नहीं बल्कि शिक्षा का मंदिर है, इसकी देखभाल आप सभी को करनी है। उन्होंने बच्चों के सुनहरे भविष्य की कामना की। गाँव में दशहरा मैदान बनाए जाने की मांग पर विचार किए जाने का आश्वासन भी दिया।

बारला समाज की बनेगी धर्मशाला बनेगी

शिवराज सिंह  चौहान ने घोषणा की कि आदिवासियों के सम्मान के दृष्टिगत तहसील मुख्यालय नसरुल्लागंज में बारला समाज की शानदार धर्मशाला बनाई जाएगी। उन्होंने आव्हान किया कि सभी परिवार अपने बच्चों को पढ़ायें। फीस भरने से लेकर पढ़ाई की सभी व्यवस्थाएं उनका शिवराज मामा करेगा।

वन-भूमि के पट्टे भी मिलेंगे

वही नसरूल्लागंज तहसील के ग्राम भिलाई में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि वन भूमि पर वर्ष 2006 के पूर्व काबिज जनजातीय परिवारों को वनाधिकार पट्टे दिए जाएंगे। सीप नदी सिंचाई परियोजना में अब किसी की भी जमीन डूब में नहीं आएगी तथा परियोजना से पाइप के माध्यम से खेतों तक पानी पहुंचाया जाएगा। 175 करोड़ रूपये की सीप नदी सिंचाई परियोजना से अगले साल तक 24 गाँवों की 20 हजार एकड़ जमीन में सिंचाई की सुविधा प्राप्त होगी।

किसानों को मिलेगा पूरा मुआवजा

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि साईं प्रसाद कम्पनी ने किसानों की जमीन लेकर मुआवजा नहीं दिया है, हम कम्पनी को छोड़ेंगे नहीं। कम्पनी की संपत्ति जब्त कर ली गई है और यह सम्पत्ति बेचकर किसानों को उनके मुआवजे की पाई-पाई दिलाई जाएगी। उन्होंने कलेक्टर को तत्काल कार्यवाही करने के निर्देश दिए।

पक्के मकान और सभी को राशन मिलेगा

मुख्यमंत्री चौहान ने जनजाति वर्ग के परिवारों को आश्वस्त किया कि वे चिंता न करें, प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री आवास योजना (Prime Minister and Chief Minister Housing Scheme) वनाधिकार पट्टे पाने वाले सभी परिवारों को शासन की सभी योजनाओं के साथ किसान सम्मान निधि (Kisan Samman Nidhi) भी दी जाएगी। किसी गरीब की थाली खाली नहीं रहेगी।