ऊर्जा मंत्री

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश के ऊर्जा मंत्री (MP Energy Minister)  प्रद्युम्न सिंह तोमर  (Pradyuman Singh Tomar) का एक और एक्शन देखने को मिला है। ऊर्जा मंत्री तोमर ने कार्य में लापरवाही बरतने पर दो प्रबंधकों को कारण बताओ नोटिस और दो उप-महाप्रबंधको को चेतावनी जारी की है।इससे पहले कॉल सेन्टर (Call Center) के प्रभारी डीई और एई की एक-एक वेतन वृद्धि रोकने और कॉल सेन्टर चलाने वाली एजेन्सी के विरूद्ध कार्रवाई के निर्देश दिये गए थे।

यह भी पढ़े.. मध्य प्रदेश में 1 नवंबर से लागू होगा यह नियम, बिजली बिलों में मिलेगी बड़ी राहत

ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर द्वारा सोमवार को विद्या नगर जोन में निरीक्षण के दौरान रखरखाव में लापरवाही बरतने के आरोप में उप महाप्रबंधक शहर वृत्त  एमपी सिद्दीकी एवं उप महाप्रबंधक पश्चिम शहर संभाग  नवनीत गुप्ता को रखरखाव तथा अन्य कार्यालयीन रिकार्ड प्रभावी ढंग से संधारित नहीं रखने के आरोप में चेतावनी जारी की गई है। इसी प्रकार वैभव यादव, प्रबंधक साकेत नगर को एक वेतन वृद्धि एक वर्ष के लिए रोकने कारण बताओ नोटिस और  रजनीश कुमार प्रबंधक विद्यानगर को एक वेतन वृद्धि एक वर्ष के लिए रोकने कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है।

दरअसल, ऊर्जा मंत्री  प्रद्युम्न सिंह तोमर ने रखरखाव में लापरवाही बरतने को लेकर सख्त निर्देश जारी किये हैं और कहा है कि अनियोजित शटडाउन नहीं होना चाहिए और इसके लिए रखरखाव के कार्य तेजी से संपन्न कराए जाएँ। शहर वृत्त भोपाल के अंतर्गत अधिकारियों पर ऊर्जा मंत्री के निर्देश पर यह अब तक की सबसे बड़ी कार्यवाही की गई है।इसके अलावा ऊर्जा मंत्री ने कहा है कि उपभोक्ताओं को निर्बाध और गुणवत्तापूर्ण विद्युत प्रदाय सुनिश्चित करने के लिए विद्युत प्रणाली के मेन्टीनेन्स के कार्य प्राथमिकता से समय-सीमा में सुनिश्चित किए जाएं ताकि मानसून के दौरान अनावश्यक विद्युत व्यवधान उत्पन्न न हो।

यह भी पढ़े.. सीएम शिवराज सिंह चौहान की मंत्रियों से वन-टू-वन चर्चा, रुके हुए विकासकार्यों में आएगी तेजी

ऊर्जा मंत्री के एक्शन के बाद मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी(Central Zone Electricity Distribution Company) के प्रबंध संचालक  गणेश शंकर मिश्रा ने मैदानी अधिकारियों-कर्मचारियों को निर्देश दिए हैं कि वे कार्य के प्रति गंभीर हों और किसी भी प्रकार की कोताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। उन्होंने सचेत किया है कि उपभोक्ता सेवा सर्वोपरि है और उन्हें निर्बाध विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए कंपनी जिम्मेदार है और इस जिम्मेदारी के निर्वहन में लाइन स्टॉफ से लेकर इंजीनियर तक की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

बता दें कि इन दिनों ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) समर्थक और शिवराज सरकार में ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर खूब चर्चाओं में बने हुए है। कभी Twitter पर शिकायत तो कभी अखबारों में छपी खबरों के बाद अधिकारियों-कर्मचारियों पर उनकी कार्रवाई मीडिया  में खूब सुर्खियां बटोर रही है। अब तक वे कई अधिकारियों-कर्मचारियों को निलंबित करने  और वेतन वृद्धि रोकने के निर्देश दे चुके है। इसके पहले भी नाली की सफाई को लेकर भी उनके कई वीडियो सोशल मीडिया (Social Media) पर वायरल (Video Viral) हो चुके है।

यह भी पढ़े.. MP Weather Alert: मप्र के इन जिलों में बारिश के आसार, बिजली चमकने की भी संभावना