सीएम शिवराज सिंह बोले- 1 जून से सब नहीं खोलेंगे, ऐसा हुआ तो होगा बड़ा विस्फोट

संभावना जताई जा रही है कि अपने संबोधन में सीएम शिवराज सिंह चौहान कई बड़े ऐलान कर सकते है।

MPसीएम शिवराज सिंह चौहान

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। 1 जून से पूरे मध्य प्रदेश में अनलॉक (Unlock 2021) की प्रक्रिया शुरु हो जाएगी, इसके पहले सीएम शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chauhan) आज बुधवार को प्रदेश की जनता को संबोधित कर रहे है।इस मौके पर सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि अभी निश्चिंत नहीं होना है, संकट अभी टला नहीं है। खतरा अभी बाकी है क्योंकि वायरस अभी भी हमारे बीच है। इंदौर और भोपाल में बहुत सावधानी की आवश्यकता है। रतलाम, रीवा, अनूपपुर, सीधी इन जिलों को भी ध्यान देने की जरूरत है। सम्पूर्ण प्रदेश में सावधानी की आवश्यकता है।1 जून से सब नहीं खोलेंगे और धारा 144 लागू रहेगी।

यह भी पढ़े.. MP Weather Alert: Cyclone Yaas के चलते मप्र में बारिश के आसार, इन राज्यों में अलर्ट

सीएम शिवराज सिंह ने कहा कि बहनों और भाइयों अगर हम असावधान रहे तो संक्रमण धीरे-धीरे बढ़ता रहेगा और जब संक्रमितों की संख्या बढ़ेगी एक दिन विस्फोट होगा और तीसरी लहर आ जाएगी। हमें दुनिया चलाते हुये तीसरी लहर नहीं आने देना है, इसको कोशिश करनी है। इसके लिए एक रोड मैप तैयार किया है। संक्रमण जहां पता चले वहीं रोकना है, इसे बढ़ने नहीं देना है। आज कोरोना संकट ने मानवता को फिर से झकझोर कर रख दिया है। अब हम कोरोना संक्रमण को नियंत्रित करने की स्थिति में आ रहे हैं।अगर असावधान रहे, अचानक निकल पड़े, भीड़ इकट्ठी करी, मेला शुरू किया, आयोजन प्रारंभ हो गए तो संक्रमण को बढ़ते देर नहीं लगेगी, हम फिर संकट में फंस जाएंगे। हमने वो दिन देखे हैं, जब अस्पताल के बिस्तर भरे थे, ऑक्सीजन के लिए दिन रात एक करनी पड़ी, तकलीफें उठानी पड़ी।

यह भी पढ़े.. PMJJBY: मोदी सरकार की इस योजना से मिलेगा 2 लाख का बीमा, जानें कैसे उठा सकते है लाभ

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि हम वैसी परिस्थितियाँ नहीं बनने देंगे और इसलिए सावधानी की आवश्यकता है, कोरोना कर्फ्यू धीरे धीरे खोला जायेगा। कैसे खोला जायेगा यह आपको तय करना है। गाँव, वार्ड, ब्लॉक और जिले में कौन सी गतिविधियां चालू रहेंगी कौन सी बंद रहेगी यह क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप तय करेगा।टेस्टिंग लगातार जारी रहेगी। लगभग 75 हजार टेस्ट रोज किए जाएंगे। फीवर क्लिनिक भी चालू रहेंगे, टेस्टिंग के लिए मोबाईल टीम भी भेजी जाएंगी। संक्रमित को तुरंत पहचान कर इलाज की व्यवस्था करेंगे, ताकि संक्रमण आगे न बढ़े, इसके लिए कान्टैक्ट ट्रैसिंग की जाएगी।

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में गाँव में क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप का गठन अभिनव प्रयोग रहा। इसमें सरपंच, पंच, सामाजिक-राजनैतिक कार्यकर्ता, पंचायत सचिव, रोजगार सहायक, आशा कार्यकर्ता, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, मुकद्दम, एएनएम और चौकीदार को जोड़ा गया जिससे निचले स्तर का अमला एकजुट हो गया।इसी तरह वार्ड में क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप ने स्थितियाँ संभाली और गतिविधियां बंद करने का काम किया। आना-जाना नियंत्रित किया। ऐसे ही ब्लॉक स्तर पर माइक्रो कंटेन्मेंट ज़ोन, कोविड केयर सेंटर का प्रबंधन ब्लॉक स्तर पर क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप ने किया।

यह भी पढ़े.. Bank Holiday 2021: जल्द निपटा लें अपने जरुरी काम, जून में 9 दिन बंद रहेंगे बैंक

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि इसी जनभागीदारी के मॉडल के साथ मध्यप्रदेश में संक्रमण की दर नियंत्रित करने में हमे बड़ी सफलता मिली है। लेकिन मैं फिर आपसे निवेदन करता हूँ, हमें अभी लंबा रास्ता तय करना है। कर्फ्यू अनंत काल तक नहीं रह सकता। हमने तय किया है, 1 जून से हम धीरे धीरे आर्थिक गतिविधियां शुरू करेंगे।मैं 1 लाख 17 हजार से ज्यादा कोरोना वालेंटियर से आह्वान करता हूँ कि निकलें और समाज की मदद करें। क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप के साथ कोविड अनुरूप व्यवहार, मास्क लगाना, दूरी रखना, सैनिटाइजर का प्रयोग करना इन कामों को संभालें।

रिकवरी रेट 93.39 प्रतिशत, सावधानी जरूरी

सीएम शिवराज सिंह ने कहा कि मंगलवार को 70 हजार से अधिक टेस्ट हुए। जिनमें से पॉजिटिव केस केवल 2 हजार 189 आए और 7 हजार 846 व्यक्ति स्वस्थ हुए। पॉजिटिविटी रेट घटकर 3.1 प्रतिशत रह गया है। रिकवरी रेट बढ़कर 93.39 प्रतिशत है। यह प्रतिशत लगातार बढ़ता जा रहा है। लेकिन हमें निश्चिंत नहीं होना है। संकट अभी टला नहीं है। खतरा अभी बाकी है वायरस हमारे बीच है। यह बात सही है कि 17 जिलों में आज 10 से कम केस आए लेकिन अभी भी इन्दौर और भोपाल में बहुत सावधानी की आवश्यकता है। दोनों स्थानों पर लगातार 500 से अधिक पॉजिटिव केस आ रहे हैं। रतलाम, रीवा, अनूपपुर, सीधी आदि जिलों को भी सावधानी की जरूरत है। इन जिलों के साथ ही संपूर्ण प्रदेश में सावधानी की आवश्यकता है।

भीड़, मेले, ठेलों और आयोजनों से अभी बचना होगा

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश का मॉडल जन-भागीदारी का मॉडल है और इसी मॉडल के कारण संक्रमण की दर को नियंत्रित करने में सफलता मिली। लेकिन अभी लम्बा रास्ता तय करना है। कोरोना कर्फ्यू अभी लागू है, पर यह अनंत काल तक लागू नहीं रह सकता। हमने तय किया है कि एक जून से धीरे-धीरे आर्थिक गतिविधियाँ खोलेंगे। कोरोना का वायरस रहेगा अत: अभी पूरी सावधानी से गतिविधियों का संचालन आवश्यक है। भीड़, मेले, ठेलों आयोजनों से अभी बचना होगा। यदि हमने यह नहीं किया तो संक्रमण को बढ़ने में देर नहीं लगेगी और हम पुन: संकट में फँस जाएंगे।

कोरोना के कष्ट को हम फिर से नहीं देखना चाहते

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश उस स्थिति से भी गुजरा है जब अस्पतालों के सभी बिस्तर भरे थे। ऑक्सीजन की व्यवस्था के लिए दिन-रात एक करने पड़ रहे थे। कितने ही लोगों को ऑक्सीजन लगी, कुछ लोग वेन्टीलेटर पर चले गए और कुछ लोग तो इस दुनिया से ही चले गए। प्रश्न यह है कि क्या हम उस कष्ट को फिर से देखना चाहते हैं? निश्चित ही हम ऐसी परिस्थितियाँ नहीं बनने देंगे। इसके लिए सावधानी की आवश्यकता है।

कोरोना कर्फ्यू धीरे-धीरे खोला जाएगा

सीएम शिवराज सिंह ने कहा कि कोरोना कर्फ्यू धीरे-धीरे खोला जाएगा। कौनसी गतिविधि कब आरंभ होगी, क्या खुला रहेगा, क्या बन्द रहेगा, यह ग्राम, वार्ड, ब्लाक, नगर और जिला स्तर की क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटियाँ तय करेगी। अलग-अलग जिलों में स्थानीय परिस्थितियों के अनुसार अलग-अलग व्यवस्थाएँ होंगी। यह भी स्थानीय स्तर पर ही तय होगा। जो जिले पूरी तरह से कोरोना मुक्त हो गए हैं, वहाँ की गतिविधियाँ अलग होंगी। जहाँ संक्रमण फैला है वहाँ क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी अलग से विचार करेगी। आगामी रणनीति के बारे में एक जून से पहले निर्णय लेना आवश्यक है। उसके लिए एक-दो दिन में ही चर्चा कर पूरी सावधानी बरतते हुए निर्णय लिया जाए। अनलॉक का जो वैज्ञानिक तरीका है उससे समितियों को अवगत कराया जाएगा और स्थानीय परिस्थितियों के अनुरूप समितियाँ निर्णय लेंगी।

सब नहीं खोलेंगे, तीसरी लहर को रोकना है

सीएम शिवराज सिंह ने कहा कि अब तीसरी लहर की संभावना है। यदि हम असावधान रहे तो संक्रमण धीरे-धीरे बढ़ता रहेगा। यदि इस संक्रमण का विस्फोट हुआ तो वही तीसरी लहर हो जाएगी। अत: हमें दिन-प्रतिदिन की जरूरी गतिविधियाँ चलाते हुए तीसरी लहर को रोकने की कोशिश करना है। इसके लिए रोडमैप तैयार किया गया है। गतिविधियाँ आरंभ होंगी लेकिन पूरी तरह से नहीं। राजनैतिक रैलियाँ, सभाएँ, धार्मिक आयोजन पूरी तरह से बन्द रहेंगे। शादी-विवाह में न्यूनतम संख्या का बंधन होगा। जो लोग सम्मिलित हों वह टेस्ट कराकर आएँ, आयोजन स्थल पर टेस्ट की व्यवस्था की जाएगी।

बता दे कि मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में पिछले 24 घंटे में 2189 नए केस सामने आए है और 72 की इलाज के दौरान मौत हो गई। इसके बाद प्रदेश में  एक्टिव केसों की संख्या 44 हजार से नीचे गई है। वही अनलॉक की प्रक्रिया भी शुरु हो गई है, शुरुआती दौर में 5 जिले झाबुआ, अलीराजपुर, खंडवा, बुरहानपुर और भिण्ड में कोरोना कर्फ्यू में कुछ प्रतिबंधों के साथ छूट प्रदान की गई है।वही 1 जून से बाकी जिलों में छूट दी जाएगी।

गौरतलब है कि प्रदेश के तीन जिलों में ही अब 100 से अधिक नए कोरोना प्रकरण हैं और प्रदेश में सात दिनों का पॉजिटिविटी रेट 5% हो गई है।वही प्रदेश के सभी 52 जिलों में संक्रमण अब 10% नीचे आ गया है। मात्र 7 जिलों इंदौर, भोपाल, सागर, रतलाम, रीवा, अनूपपुर तथा सीधी में ही साप्ताहिक पॉजिटिविटी रेट 5% से अधिक है। प्रदेश के शेष 45 जिलों में संक्रमण 5% या उससे कम है।

 

शिवराज सिंह चौहान