35 वर्ष बाद बेटी ने लिया जन्म, निवास स्थान लाने के लिए इस व्यक्ति ने किराए पर लिया हेलीकॉप्टर

हम अपनी बेटी, मेरी राजकुमारी का स्वागत बहुत ही खास तरीके से करना चाहते थे, और इसके लिए जितना मुझमे दम था वो सब मैंने किया ये दिखाने के लिए की मेरी बेटी मेरे लिए और मेरे परिवार के लिए कितनी खास है।'

बेटी का जन्म

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। बच्चे के जन्म पर घर में खुशी (happiness) की लहर दौड़ जाती है। नए सदस्य (new member) के आने से सभी उसके स्वागत (welcome) की तैयारियों (preparations) में खो जाते हैं। लेकिन राजस्थान (rajasthan) में घर में बेटी के जन्म लेने पर जिस तरह की तैयारियां और खुशियां मनाई गयीं हैं वैसा पहले शायद ही कभी देखा गया हो। राजस्थान के नागौर जिले के एक व्यक्ति ने अपनी एक महीने की बेटी को उसके नाना-नानी के घर से वापस लाने के लिए हेलिकॉप्टर (helicopter) किराए पर ले लिया।

यह भी पढे़ं… शिवपुरी में मजदूरों से भरी लोडिंग वाहन पलटी, 7 लोग घायल

खबर है कि हनुमान प्रजापति की पत्नी चूकि देवी ने 3 मार्च को नागौर जिला अस्पताल में एक बेटी को जन्म दिया। जिसके बाद जन्मोपरांत ज़रूरी देखभाल हेतु वे अपने माता-पिता के घर जो कि हरसोलाव गांव में है, वहां चली गयीं। बुधवार को बच्ची को वापस उसके पिता के घर जो कि निम्बड़ी चंदावट में है, वहां लाना तय किया गया। और इसके लिए हनुमान प्रजापति ने कोई भी खतरा न उठाते हुए उसे किराए पर लिए हेलीकॉप्टर से घर लाना बेहतर समझा।

यह भी पढ़ें… सतना में बोलेरो-ट्रक की टक्कर से 3 की मौत, बेटी का तिलक चढ़ाकर लौट रहा था परिवार

पीटीआई से फ़ोन पर बात करते हुए हनुमान ने कहा , हम अपनी बेटी, मेरी राजकुमारी का स्वागत बहुत ही खास तरीके से करना चाहते थे, और इसके लिए जितना मुझमे दम था वो सब मैंने किया ये दिखाने के लिए की मेरी बेटी मेरे लिए और मेरे परिवार के लिए कितनी खास है।’

आपको बता दें कि हरसोलाव और निम्बड़ी चंदावट के बीच महज़ 40 किमी का फासला है। हेलीकॉप्टर ने ये सफर मात्र 10 मिनट में तय कर लिया था। निम्बड़ी चंदावट से हनुमान को लेते हुए हेलीकॉप्टर हरसोलाव पहुंचा वहां 2 घन्टे बिताने के बाद हनुमान अपनी पत्नी और बेटी को लेकर वापस हेलीकॉप्टर से निम्बड़ी चंदावट आ गए।

हनुमान ने बताया कि बेटी के स्वागत के लिए बनाई गई ये पूरी योजना उनके पिता मदनलाल कुम्हार की थी। न्यूज़ एजेंसी एएनआई से बात करते हुए मदनलाल ने कहा कि पूरे 35 साल बाद हमारे घर मे आशीर्वाद के रूप में कन्या आई है इसलिए मैंने ये सारे प्रबंध किए। अपनी पोती के प्रति लाड़ जताते हुए उन्होंने ये भी कहा कि वे उसके सारे सपने पूरे करेंगे।