बोले अमरिंदर- “राहुल-प्रियंका अनुभवहीन, सलाहकार गुमराह कर रहे”

चंडीगढ़, डेस्क रिपोर्ट। पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amarinder Singh) बेहद दुखी हैं। एक साक्षात्कार में उन्होंने गांधी परिवार के साथ अपने आत्मीय रिश्तों के इस तरह बिखर जाने को लेकर पीड़ा व्यक्त की है। इसके साथ ही उन्होंने नवजोत सिंह सिद्धू पर भी करारा हमला बोला है। कैप्टन अमरिंदर सिंह ने एक बार फिर नवजोत सिंह सिद्धू के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। उन्होंने कहा है कि 2022 के विधानसभा चुनाव में सिद्धू को हराने के लिए वह पूरा दम लगा देंगे।

नरोत्तम मिश्रा ने दिए FIR के आदेश, खजराना में मंत्री का रिश्तेदार बताकर धमकाने का मामला

साढे 9 साल पंजाब की कमान संभालने वाले अमरिंदर सिंह ने प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू के खिलाफ तगड़ा हमला बोला है। उन्होंने कहा है कि 2022 के विधानसभा चुनाव में सिद्धू को हराने के लिए उनके खिलाफ एक मजबूत प्रत्याशी खड़ा करेंगे। कैप्टन का यह भी मानना है कि सिद्धू के नेतृत्व में अगर चुनाव लड़ा गया तो कांग्रेस दहाई का आंकड़ा भी पार नहीं कर पाएगी। उन्होने कहा कि खनन माफिया में कथित रूप से शामिल मंत्रियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं करने के लिए मुझ पर हमला किया गया। वही मंत्री अब नए मंत्रिमंडल मे शामिल है। उन्होने कहा कि सिद्धू यह कहते थे कि मैं अकाली दल के नेताओं बादल और मजीठा के खिलाफ कार्रवाई नहीं करता। अब वह सरकार में हैं। अब अकाली दल के नेताओं को सलाखों के पीछे भेज कर बताएं।

अमरिंदर सिंह ने यह भी कहा कि सोनिया गांधी अगर मुझसे पद छोड़ने के लिए कहतीं तो मैं तुरंत इस्तीफा दे देता। हालांकि पहले मैंने इस्तीफा देने की पेशकश की थी लेकिन सोनिया गांधी ने इसके लिए मना कर दिया था। राहुल और प्रियंका को अपने बच्चों की तरह बताते हुए उन्होंने कहा कि यह इस तरह खत्म नहीं होना चाहिए था। वास्तव में भाई-बहन अनुभवहीन हैं और उनके सलाहकार उन्हें गुमराह कर रहे हैं। पंजाब के मंत्रिमंडल गठन के बारे में उन्होंने कहा कि मंत्रियों को जाति के आधार पर नहीं बल्कि उनके प्रभाव के आधार पर नियुक्त किया जाना चाहिए था, जो मैं करता था। लेकिन अब बाहर के नेता यह तय कर रहे हैं कि किस मंत्री को कौन सा विभाग दिया जाएगा। मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी की तारीफ करते हुए अमरिंदर ने नवजोत सिंह सिद्धू को सुपर सीएम बताया और कहा कि चन्नी मेरे कैबिनेट में साढ़े 4 साल मंत्री रहे हैं और उनके पास अच्छा अनुभव है। तकनीकी शिक्षा से लैस चन्नी अच्छा काम कर चुके हैं और मुझे पूरी उम्मीद है कि भी बतौर सीएम भी अच्छा काम करेंगे। अमरिंदर का यह बयान कांग्रेस के प्रति उनके मोह भंग का प्रतीक है और यदि भविष्य में अमरिंदर राजनीति में कोई बड़ा कदम उठाएं तो इसमें कोई अचंभा नहीं होना चाहिए।