शिक्षक भर्ती प्रक्रिया के बीच कमलनाथ की सीएम शिवराज से मांग, बोले- कई हो जाएंगे अपात्र

वही पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा है कि सह विषय मूल विषय के ही नवीन और समय अनुकूल विषय है। जिसे मूल विषय के समान ही अध्ययन की आवश्यकता होती है। इसलिए सह विषयों को मूल विषय के समकक्ष ही मान्य किया जाना चाहिए।

kamalnath

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (madhya pradesh) में एक बार फिर से शिक्षक भर्ती (Teacher recruitment) के लिए प्रक्रिया शुरू हो गई है। 2 साल बाद शुरू हुई प्रक्रिया के लिए सत्यापन (Verification) का कार्य शुरू कर दिया गया है। इसी बीच पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ (kamalnath) ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (shivraj singh chauhan) से बड़ी मांग की है।

दरअसल पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिखकर उच्च माध्यमिक शिक्षक भर्ती प्रक्रिया में सह विषयों को मान्य करने का आग्रह किया है। इस मामले में सीएम शिवराज को पत्र लिखते हुए कमलनाथ ने कहा कि सह विषयों को अमान्य कर देने से वर्ग 1 के शिक्षक भर्ती प्रक्रिया में पात्रधारी उम्मीदवार अपात्र घोषित किए जा रहे हैं।

अपने लिखे पत्र में कमलनाथ ने कहा कि उच्च माध्यमिक शिक्षक भर्ती प्रक्रिया 2018 में शिक्षकों के लिए जीव विज्ञान के सह विषय जैसे माइक्रोबायोलॉजी (Microbiology), बायो टेक्नोलॉजी से स्नातकोत्तर उपाधि प्राप्त अभ्यर्थियों को भी चयन प्रक्रिया में शामिल किया जाए। अभी तक की प्रक्रिया में उन्हें अयोग्य माना जा रहा है। जिसके बाद लाखों उम्मीदवार अपात्र हो गए हैं।

Read More: MP Board: 10वीं-12वीं बोर्ड परीक्षार्थियों को मिली राहत, मंत्री इंदर सिंह परमार का बड़ा बयान

बता दें कि सीएम शिवराज ने अपने पत्र में कहा है कि वर्ष 2005 में संविदा शिक्षक श्रेणी के चयन प्रक्रिया में स्नातकोत्तर उपाधि प्राप्त सह विषयों को मान्य करने के संबंध में स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा निर्देश दिए गए थे। जबकि उच्च माध्यमिक शिक्षा भर्ती प्रक्रिया 2018 में शिक्षकों के लिए सह विषयों को अमान्य करार दिया है।

वही पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा है कि सह विषय मूल विषय के ही नवीन और समय अनुकूल विषय है। जिसे मूल विषय के समान ही अध्ययन की आवश्यकता होती है। इसलिए सह विषयों को मूल विषय के समकक्ष ही मान्य किया जाना चाहिए। ताकि युवाओं का भविष्य सुरक्षित रह सके। इस मामले में गंभीर विषय से संज्ञान लेते हुए अविलंब विषयों को मान करने का निर्देश देने की मांग की है।