PMAY: मप्र के हितग्राहियों के खाते में सीधे भेजी जाएगी राशि, मंत्री ने दिए निर्देश

प्रधानमंत्री आवास योजना (PMAY) के हितग्राहियों के खाते में सीधे राशि भेजें। इस संबंध में जरूरी कार्रवाई समय-सीमा में करें।

कर्मचारियों

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश के प्रधानमंत्री आवास योजना  (Prime Minister’s Housing Scheme) के हितग्राहियों के लिए अच्छी खबर है। योजना के तहत हितग्राहियों  के खाते में सीधे राशि भेजी जाएगी। नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेंद्र सिंह (Urban Development and Housing Minister Bhupendra Singh) ने अधिकारियों को इस संबंध में निर्देश दिए है।

यह भी पढ़े.. MP Weather : मप्र के 22 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी, बिजली गिरने के भी आसार

सोमवार को नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेंद्र सिंह ने विभागीय योजनाओं की समीक्षा के दौरान अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना (PMAY) के हितग्राहियों के खाते में सीधे राशि भेजें। इस संबंध में जरूरी कार्रवाई समय-सीमा में करें।17 सितंबर को सभी नगरीय निकायों में 100-100 पौधे लगाए जाएं। पौधों के पेड़ बनने तक देखरेख भी करें।  मुख्यमंत्री अधोसंरचना मद के कार्यों की नगरीय निकाय बार समीक्षा करें। योजना में अभी तक 382 स्वीकृत कार्यों में 149 पूरे हो चुके हैं।

मंत्री भूपेंद्र सिंह ने स्वच्छ भारत मिशन के कार्यों की समीक्षा के दौरान कहा कि एकीकृत ठोस अपशिष्ट प्रबंधन के लिए विभिन्न क्लस्टरों में चल रहे कार्यों की सतत मॉनिटरिंग जरूरी है।  अन्य निकायों के लिए भी अपशिष्ट प्रबंधन की बेहतर मैकेनिज्म बनाएं। नल जल एवं सीवरेज परियोजनाओं को निर्धारित समय-सीमा में पूरा करने के निर्देश दिए।  दीनदयाल अंत्योदय योजना राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन के कार्य संतोषप्रद नहीं है। इस योजना में कार्य मिशन मोड में होना चाहिए। नियमानुसार स्व-सहायता समूह का गठन किया जाए।

यह भी पढ़े.. MP College : कॉलेज खुलने से पहले विभाग का बड़ा फैसला, इन छात्रों को मिलेगा लाभ

गौरतलब है कि PMAY की शुरुआत 2015 में केंद्र की मोदी सरकार द्वारा की गई थी। इस योजना का मुख्य उद्देश्य वर्ष 2022 तक हर व्यक्ति को अपना घर पर्याप्त करवाना है। प्रधानमंत्री आवास योजना में वह हर व्यक्ति शामिल है जो झुग्गी झोपड़ी अथवा कच्चे मकानों में रहते हैं। इस योजना का फायदा उन व्यक्तियों को होगा जो आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग तथा मध्यम वर्ग से है अथवा जिनके पास स्वयं का घर नहीं है। इस योजना के तहत उनको स्वयं के घर दिए जाएंगे।  इस योजना के जरिए एलआईजी, ईडब्ल्यूएस एमआईजी, इनकम ग्रुप के व्यक्तियों को भी शामिल किया जाएगा।