MP School: 9वीं से 12वीं के छात्रों के लिए काम की खबर, प्राचार्यों को जारी हुए ये निर्देश

कक्षा 9वीं से 12वीं तक के विद्यार्थियों के लिये उमंग जीवन कौशल शिक्षा भी दी जायेगी और छात्र समस्या समाधान के लिये विद्यार्थी हेल्पलाईन 14425 का उपयोग कर सकेंगे।

mp school

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश के स्कूल शिक्षा विभाग (MP School Education Department) ने आदेशानुसार सभी शासकीय विद्यालयों (Government School) में 20 से कैरियर सप्ताह की शुरुआत कर दी गई है, जो 24 दिसंबर तक जारी रहेगा।इसके तहत शिक्षक छात्रों को बताएंगे कि किस क्षेत्र में वे अपना कैरियर बना सकते है।इसके लिए दो शिक्षक नियुक्त किए जाएंगे, जो 1 घंटे तक छात्रों का मार्गदर्शन करेंगे। इस संबंध में प्राचायों को भी निर्देश जारी किए जा चुके है।इसके अलावा कक्षा 9वीं से 12वीं तक के विद्यार्थियों के लिये उमंग जीवन कौशल शिक्षा भी दी जायेगी और छात्र समस्या समाधान के लिये विद्यार्थी हेल्पलाईन 14425 का उपयोग कर सकेंगे।

यह भी पढ़े.. मप्र पंचायत चुनाव: जिलेवार प्रेक्षकों की नियुक्ति, ये जानकारी देना अनिवार्य, कलेक्टर को भी जिम्मेदारी

जिला शिक्षा अधिकारी (DEO) ने बताया है कि कक्षा 9वीं से 12वीं तक (9th To 12th Student) के विद्यार्थियो के लिये कैरियर काउंसलिंग आवश्यक है। यह विद्यार्थियों को उनके कैरियर के विकल्पों को समझने में सहायता करती है। विद्यार्थी अपने वर्तमान पाठ्यक्रम से संबंधित अपनी क्षमताओं और कमजोरियों को परखने मे समझ विकशित कर उसके अनुरूप विषय चयन कर सकते है। कैरियर मार्गदर्शन विद्यार्थियों को उनके रूचि, कौशल, क्षमता अनुसार लक्ष्य निर्धारण करने एवं लक्ष्य की प्राप्ति में सहायक होता है। इसके लिये प्रत्येक विद्यालय के दो शिक्षकों को वर्चुअल उन्मुखीकरण किया गया। सरकारी स्कूल में पढ़ने वाले बच्चे को अपना कैरियर चुनने में कठिनाई न हो इसके लिये उन्हें स्कूल में मार्गदर्शन दिया जायेगा।

यह भी पढ़े.. कर्मचारियों को नए वेतनमान का तोहफा, इतनी बढ़कर आएगी सैलरी, वेतनवृद्धि-एरियर का भी लाभ

इसके लिये प्रत्येक विद्यालय दो-दो कैरियर काउंसलर नियुक्त किये गये है। कैरियर मार्गदर्शन में कक्षा 10वीं के विद्यार्थियों को विशेषरूप से फोकस किया जायेगा क्योंकि 10वीं के विद्यार्थियों को अगली कक्षा में प्रवेश के समय विषय चयन करने में काफी असमंजस होता है। इसलिये ऐसे विद्यार्थियों को विभिन्न क्षेत्रों में उच्च अध्ययन तथा रोजगार (Employment) के अवसरों से अवगत कराया जायेगा ताकि उन्हें विषय चयन करने में परेशानी न हो। कई बार विद्यार्थी के अभिभावक भी इतने सक्षम नहीं होते कि उन्हें संकाय के बारे मे बता सके। इसलिये भी यह कार्यक्रम पूरे सप्ताह आयोजित किया जायेगा। प्रत्येक स्कूल मे 1 घंटे का कार्यक्रम आयोजित होगा।

जीवन कौशल शिक्षा उमंग

सीधी जिला शिक्षा अधिकारी ने जानकारी देते हुए बताया कि विद्यालयों में जीवन कौशल शिक्षा उमंग किशोर हेल्पलाईन 14425 (Life Skill Education Umang Kishore Helpline) का क्रियान्वयन बोर्ड परीक्षाओं (MP Board Exams) के दृष्टिगत किया जायेगा। विद्यार्थियों में तनाव हो सकता है विद्यार्थी पढ़ाई करते समय अन्य विचारों से परेशान रहते है अथवा परीक्षा के डर से परेशान हो सकते है, चिन्ता, लत, घबराहट, तनाव गुस्सा, मनमोटव इत्यादि समस्याएं विद्यार्थियों के पास हो सकती है।चिन्ता, तनाव, गुस्से से बचे, उमंग किशोर के साथ संयमित और मानसिक रूप से मजबूत बने उचित सलाह के लिये 14425 पर कॉल करें।

प्राचायों को निर्देश

सीधी जिला शिक्षा अधिकारी ने बताया कि स्वयं को दोष न दे अपनी ओर से पूरी कोशिश करें, कार्य करने से पहले थोडा सोचे फिर कदम बढ़ाये, गहरी सांस ले और कार्य करने के पहले रिलेक्स रहे, सुबह-सुबह की प्रेस हवा ले और व्यायाम करें, विश्वसनीय व्यक्ति विशेष से ही सलाह लें आदि विषयों पर उमंग किशोर कार्यक्रम अन्तर्गत आपके संस्था से दो शिक्षकों को जीवन कौशल शिक्षा के विषय में प्रशिक्षण पूर्व में दिया जा चुका है। माड्यूल शिक्षकों के पास उपलब्ध है।जिला शिक्षा अधिकारी सीधी ने सभी प्राचार्यो को निर्देशित किया है कि जीवन कौशल शिक्षा, उमंग किशोर हेल्प लाईन 14425 का क्रियान्वयन अनिवार्य रूप से कक्षा 9वीं से 12वीं तक के विद्यार्थियों के लिए सप्ताह में कम से कम एक दिन कराया जाना सुनिश्चित करें।