MP Politics : मप्र राज्यसभा चुनाव से पहले कैलाश विजयवर्गीय का बड़ा बयान

कैलाश विजयवर्गीय ने खुद को राज्यसभा की रेस से बाहर बताया है।

कैलाश विजयवर्गीय

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश में आगामी दिनों में होने वाले राज्यसभा चुनाव (MP Rajya Sabha Election 2021) से पहले सियासी हलचल तेज हो गई है। एक तरफ कॉंग्रेस (mp congress) ने जादुई आंकड़ा ना होने के चलते राज्यसभा मे उम्मीदवार उतराने से इनकार कर दिया है, वही दूसरी तरफ बीजेपी से कई नाम चर्चा में बने हुए है। इसी बीच  बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय (Kailash Vijayvargiya) ने बड़ा बयान देकर अपने नाम पर लग रही सभी अटकलों पर विराम लगा दिया है।

यह भी पढ़े.. MP School : छात्रों के लिए बड़ी खबर, ऐसे लगेंगी 1 से 5वीं की कक्षाएं, ये रहेंगे नियम

कैलाश विजयवर्गीय ने खुद को राज्यसभा की रेस से बाहर बताया है।विजयवर्गीय ने कहा कि राज्यसभा में जाने का मेरा कोई इरादा नहीं है, जब भी मुझे पार्लियामेंट में जाना होगा तो चुनाव लड़कर ही जाऊंगा।इस बयान के बाद उन सभी कयासों पर विराम लग गए है, जिसमें कहा जा रहा था कि थावरचंद गहलोत के कर्नाटक के राज्यपाल बनने के बाद खाली हुई राज्यसभा सीट पर बीजेपी विजयवर्गीय को राज्यसभा भेज सकती है।वही इस बात की प्रबल संभावना थी कि पिछले 6 सालों से पश्चिम बंगाल में मेहनत कर रहे कैलाश को केंद्रीय नेतृत्व उनकी मेहनत का परिणाम दे सकता है और उन्हें राज्यसभा के जरिए संसद में भेज केंद्रीय मंत्री बनाया जा सकता है।

यह भी पढ़े.. मध्य प्रदेश के किसानों के लिए राहत भरी खबर, पंजीयन शुरु, जानें पूरी प्रक्रिया

दरअसल, केंद्रीय मंत्री से राज्यपाल बने थावरचंद गहलोत (Thawar Chand Gehlot) के इस्तीफा देने से रिक्त हुई राज्यसभा की मध्य प्रदेश की एक सीट के लिए अधिसूचना बुधवार को जारी हो गई। 22 सितंबर तक नामांकन भरे जा सकेंगे और 27 सितंबर नामांकन वापस लेने की अंतिम तिथि होगी। यदि एक से अधिक उम्मीदवार रहते हैं तो 4 अक्टूबर को मतदान कराया जाएगा और शाम तक मतगणना पूरी होकर परिणाम भी घोषित हो जाएगा।कैलाश ने भले ही अपने आपको इस रेस से बाहर कर लिया है, लेकिन पूर्व सीएम उमा भारती (Uma Bharti), कृष्ण मुरारी मोघे और भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चे के राष्ट्रीय अध्यक्ष लाल सिंह आर्य का नाम अब भी चर्चा में बना हुआ है।

बीजेपी के खाते में जाएगी सीट

मध्य प्रदेश में वर्तमान में 230 में से 227 विधायक हैं और 3 विधानसभा की सीटें रिक्त हैं। इनमें बीजेपी के 125 और कांग्रेस के 95 सदस्य हैं। सपा का एक, बसपा के दो और निर्दलीय चार विधायक भी हैं। कांग्रेस ने स्थितियों को देखते हुए अपना उम्मीदवार नहीं उतारने का फैसला किया है।कांग्रेस को पता है कि यदि उसे निर्दलीय, सपा और बसपा विधायकों का भी समर्थन मिल जाता है तो भी वह चुनाव जीतने की स्थिति में नहीं है। ऐसी में बीजेपी के खाते में यह सीट जाना निश्चित है।

देशभर में 6 सीटों पर होंगे चुनाव

बता दे कि मध्य प्रदेश सहित देश भर में खाली राज्यसभा की 6 सीटों पर चुनाव संपन्न कराए जाएंगे। नामांकन दाखिल करने की अंतिम तारीख 22 सितंबर है। 23 सितंबर को नामांकन स्क्रूटनी की जाएगी। नामांकन लेने की अंतिम तारीख 27 सितंबर है। मतदान 4 अक्टूबर को सुबह 9 बजे से शाम 4 बजे तक होंगे। शाम 5 बजे से मतगणना की जाएगी। चुनाव प्रक्रिया के संचालन के लिए निर्वाचन आयोग ने विधानसभा के प्रमुख सचिव अवधेश प्रताप सिंह को रिटर्निंग आफिसर बनाया है।