भोपाल| झाबुआ उपचुनाव में हार के बाद पवई विधायक प्रहलाद लोधी की सदस्यता रद्द होने से भाजपा को दो बड़े झटके लगे हैं| इसको लेकर हाई कमान सक्रिय हो गया है| दिल्ली से निर्देश के बाद भाजपा विधानसभा की कार्रवाई के खिलाफ राज्यपाल के पास पहुंची| इससे पहले पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा के बंगले पर इस मामले पर रणनीति बनी और कानूनी पहलुओं पर चर्चा हुई| बीजेपी के दस विधायक प्रह्लाद सिंह लोधी की सदस्यता को लेकर राज्यपाल लालजी टंडन से मिलने पहुंचे। जिसमें वरिष्ठ नेता नरोत्तम मिश्रा और सीतासरण शर्मा, यशोधरा राजे सहित अन्य नेता शामिल रहे| बीजेपी विधायकों ने राज्यपाल के सामने सदस्यता खत्म करने के मामले को लेकर विरोध जताया| वहीं सियासी हलचल के बीच शिवराज सिंह चौहान दिल्ली पहुँच गए हैं| जहां उन्होंने बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात की।

भाजपा का कहना है कि विधानसभा अध्यक्ष ने नियम विरुद्ध प्रहलाद लोधी की सदस्यता को ख़त्म करने का आदेश दिया है| पूर्व विधानसभा अध्यक्ष सीताशरण शर्मा ने कहा कि जो फैसला लिया गया है वह न्याय संगत नहीं है, विधानसभा अध्यक्ष को इसका अधिकार नहीं है, यह मामला राज्यपाल को जाना था| वहीं बीजेपी विधायकों की राज्यपाल से मुलाक़ात पर मंत्री डॉ गोविन्द सिंह ने हमला बोला है| उन्होंने कहा प्रहलाद लोधी की सदस्यता ख़त्म होने के बाद राज्यपाल के पास कोई अधिकार नहीं है| घबराहट में राज्यपाल के पास भाजपा विधायक पहुँच रहे हैं| जब प्रहलाद लोधी ने हाई कोर्ट में अपील की है तो राज्यपाल के पास जाने का क्या तुक है, वहीं उन्होंने यह भी कहा कि करप्शन मामले में कई बीजेपी विधायकों की विधायकी ख़त्म होने वाली है| इसलिए वे लोग घबराहट में भाग रहे हैं| 

बताया जा रहा है कि दिल्ली से बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह प्रदेश के सियासी घटनाक्रम से नाराज हैं, सदस्यता रद्द होने के मामले में बीजेपी अब तक सिर्फ बयानबाजी कर रही थी, आलाकमान के हस्तक्षेप के बाद भोपाल में हलचल बढ़ गई है। इसके बाद अब भाजपा प्रहलाद लोधी के लिए बचाव के रास्ते निकालने में जुट गई है| वहीं सीएम कमलनाथ के दो तीन सीट और आने वाले बयान के बाद भाजपा में हड़कंप मचा हुआ है| जिसको लेकर हाई कमान भी सक्रिय हो गया है| पूर्व सीएम शिवराज को दिल्ली तलब किया गया है, जहां उन्होंने अमित शाह से मुलाकात की है|  मध्यप्रदेश के वर्तमान सियासी हालात पर दोनों के साथ चर्चा भी हुई है।