भाजपा ने जारी किया ‘दृष्टि पत्र’, महिलाओं के लिए अलग घोषणा पत्र, कई बड़े वादे

BJP-released-'vision-letter'

भोपाल।

मध्य प्रदेश में चौथी बार सरकार बनाने की तैयारी कर रही भारतीय जनता पार्टी ने अपना चुनावी घोषणा पत्र जारी कर दिया है। बीजेपी ने घोषणा पत्र का नाम ‘दृष्टि पत्र’ रखा है। इसके साथ में महिलाओं के लिए बीजेपी ने अलग से घोषणा पत्र जारी किया है जिसे ‘नारी शक्ति संकल्प पत्र’ नाम दिया गया है। केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली  ने दृष्टि पत्र को जारी किया। इस दौरान मंच पर मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान, पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष, प्रदेश संगठन प्रभारी विनय सहस्त्रबुद्धे, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष  प्रभात झा,  चुनाव प्रबंधन समिति के संयोजक  नरेन्द्रसिंह तोमर, केन्द्रीय मंत्री व प्रदेश चुनाव प्रभारी  धर्मेंद्र प्रधान, पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष  राकेश सिंह, दृष्टि पत्र समिति के संयोजक  विक्रम वर्मा मौजूद रहे।

इस मौके पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा 2013 के संकल्प पत्र को हमने पूरा किया, जो संकल्प में भी नही था वो भी हमने किया। हमने मप्र को विकासशील बनाया, अब समृद्ध बनाएग। सीएम ने कहा कि हमने दृष्टी पत्र में भविष्य के मध्यप्रदेश का विकास का रोड मेप तैयार किया है।हर साल 10 लाख रोजगार, स्वरोजगार के अवसर  उपलब्ध कराने के प्रयास हम करेंगे। युवा उद्यमियों को स्टार्ट अप की सुविधाएं उपलब्ध कराएंगे। नए इंडस्ट्रियल टाउनशिप स्थापित करेंगे। व्यापारी कल्याण कोष की स्थापना करने का लक्ष्य रखा है।उन्होंने बताया कि कृषक समृद्धि योजना हमने बनाई। लेकिन इस योजना से छोटे किसानों को लाभ नहीं मिल पाता, इसलिए छोटे किसान इस योजना के लाभ से वंचित ना रहें इसलिए हमने दृष्टि पत्र में तय किया कि किसानों केअनुपात के अनुसार उनके खाते में राशि डाली जाएगी।

उन्होंने कहा कि महिलाओं के सशक्तिकरण में हमने कोई कसर नहीं छोड़ी है। इस बार हमने ‘नारी शक्ति संकल्प पत्र’ प्रस्तुत किया है जिसमें में महिला सशक्तिकरण के लिए स्वसहायता समूहों, तेजसीविनी द्वारा स्वरोजगार को अभियान बनाया जाएगा।नर्मदा एक्सप्रेस वे, चंबल एक्सप्रेस वे और औद्योगिक कॉरीडोर विकसित करने का लक्ष्य हमने निर्धारित किया है, बिजली की क्षमता को 14000 मेगावाट तक हम ले जाएंगे, मेट्रो प्रोजेक्ट प्रस्तावित है। ग्रामीण क्षेत्रों में पेयजल के लिए नलजल योजना। मूल्य स्थिरीकारण कोश जो पहले 500 करोड़ रुपये से आरंभ हुआ था इसे बढ़ा कर 2000  करोड़ करने का निर्णय हमने लिया ताकि। बाजार मूल्य गिरने की दशा में किसानों को लाभकारी मूल्य उन्हें मिल सके। सिंचाई का रकबा 80 लाख तक बढ़ाने का लक्ष्य है।

आज कोई नहीं कह सकता कि बीमारू में ‘म’ मध्यप्रदेश का था- जेटली 

केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली ने कहा हर साल 10 लाख रोजगार, स्वरोजगार के अवसर उपलब्ध कराने के प्रयास हम करेंगे। युवा उद्यमियों को स्टार्ट अप की सुविधाएं उपलब्ध कराएंगे। नए इंडस्ट्रियल टाउनशिप स्थापित करेंगे। व्यापारी कल्याण कोष की स्थापना करने का लक्ष्य रखा। एक युग कॉंग्रेस का था 1993 से 2003 का, जब काँग्रेस गई तो मध्यप्रदेश को बर्बाद और तबाह कर गई थी। लेकिन पिछले 15 सालों में शिवराज सिंह चौहान और भाजपा ने जो विकास किया, आज कोई नहीं कह सकता कि बीमारू में ‘म’ मध्यप्रदेश का था।

महिलाओं के लिए अलग घोषणापत्र

भाजपा ने इस बार महिलाओं के लिए अलग घोषणापत्र जारी किया है। नारी शक्ति संकल्प पत्र के नाम से इसमें महिलाओं को फोकस करके वादे किए गए हैं। इसमें महिलाओं के शिक्षा स्वास्थ्य से लेकर आर्थिक मजबूती तक के लिए विजन डॉक्युमेंट दिया गया है। पुलिस थानों में महिला सुविधा अधिकारी की नियुक्ति, पुलिस में पहले महिलाओं के पदों को भरने और सभी पुलिस थानों में यौन अत्याचार फॉरेंसिक परीक्षण किट उपलब्ध कराने का वादा है। महिलाओं के लिए नए स्टार्टअप लाने, 10 नए महिला ग्रामीण बीपीओ स्थापित करने, डेयरी उद्योग में महिलाओं को प्राथमिकता देने और रोजगार और स्वरोजगार में भी विशेष इंतजाम करने के दावे घोषणा पत्र में है।

 

घोषणा पत्र के कुछ अहम बिन्दु

-हर हाथ ‘एक काज” बेरोजगारी खत्म करने शुरू करेगे

-सामान्य वर्ग के बच्चो को भी मुफ्त शिक्षा पीएचडी तक

-फूड प्रोसेसिग यूनिवर्सिटी बनेगि

-कारीगर यूनिवर्सिटी बनेगी

-किसान सम्रददि कारीडोर बनेगा

-छोटे किसानो को लघु किसान स्वालंबन योजना

-निवेशको के लिये 12 नये क्लस्टर

-12वीं में 75 फीसदी से ज्यादा अंक लाने वाली छात्राओँ को स्कूटी देने का किया वादा

-यात्री और शहरी बसों में महिलाओं को छूट 60 साल से अधिक महिलाओं को निशुल्क यात्रा

-हर साल 50000 लाभार्थियों को स्वरोजगार से जोड़ने के लिए 1000 करोड रुपए का वार्षिक बजट

-उद्योग कॉरीडोर की तर्ज पर किसान समृद्धि कॉरिडोर बनेगा

-किसानों की सुविधा के लिए 500 करोड़ का विशेष कोष

– कृषि संबंधी गतिविधियों के लिए शक्ति स्वरूपा कार्य बल योजना