उपचुनाव : BJP के जजपाल सिंह जज्जी को टक्कर देंगी कांग्रेस की आशा दोहरे, रोचक होगा मुकाबला

अशोकनगर, हितेंद्र बुधौलिया। कांग्रेस पार्टी (Congress paert) द्वारा उपचुनाव (By-election) के उम्मीदवारों के नाम घोषित करने के बाद अशोकनगर जिला मुख्यालय की सुरक्षित सीट के लिये उपचुनाव के चेहरे तय हो गये है। कोंग्रेस ने यहां से श्रीमती आशा दौहरे (Mrs. Asha Dohere) को उम्मीदवार बनाया है। शुक्रवार को जारी हुई 15 लोगों की सूची में आशा एकमात्र महिला उम्मीदवार है। इनका मुकाबला भाजपा उम्मीदवार जजपाल सिंह जज्जी (BJP candidate Jajpal Singh Jadji) से होगा।

सरकार गिरा कर कॉंग्रेस से बीजेपी में आये जज्जी के नाम घोषणा पूर्व में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chauhan) एक कार्यक्रम में कर चुके है।जजपाल सिंह जज्जी जैसे खाटी एवं स्थापित नेता के सामने कांग्रेस ने नये चेहरे आशा दोहरे पर दांव लगाया है,जिनको खुद कोई चुनाव लड़ने का अनुभव नही है।जबकि जज्जी दो वार विधायक का दो बार नपाध्यक्ष का जनपद पंचायत एवं कॉलेज अध्यक्ष जैसे पदों पर चुनाव लड़ चुके है। आशा दोहरे की राजनैतिक पहचान क्षेत्र में उनकी सास अनीता जैन से है ,जो कांग्रेस की सक्रिय महिला नेत्री है एवं करीब दो दशक से नगरपालिका की राजनीति में सक्रिय रह का पार्षद चुनी जाती रही है।

वॉक ओवर माना गया

जजपाल सिंह जज्जी जैसे समर्थ एवं लंबी चौड़ी राजनीतिक हैसियत एवं टीम रखने वाले नेता के सामने कांग्रेस ने एक महिला नेत्री को टिकट दिया है। जिसकी खुद की कोई पहचान पार्टी में नही है।इसी कारण लोगो की पहली प्रतिक्रिया यह रही कि कांग्रेस ने यहां वॉक ओवर दे दिया। क्योंकि आशा दोहरे का राजनैतिक प्रभाव विधानसभा चुनाव के लिहाज से लोग कमतर मान रहे है।क्योंकि यह टिकिट उनकी सास अनिता जैन की सक्रियता के कारण उन्हें सिर्फ इस कारण मिला क्योकि आशा दोहरे आरक्षित वर्ग से आती है। उल्लेखनीय है पूर्व नेताप्रतिपक्ष अनीता जैन खुद सामान्य वर्ग से आती है मगर उनके बेटे ने आशा दोहरे से अंतर्जातीय विवाह किया है।आशा दलित समाज से आती है इसीलिय उनके नाम की घोषणा हुई है। कांग्रेस की सोची समझी रणनीति सामान्य तौर पर भले ही आशा दौहरे के टिकट को लेकर लोग वॉकओवर देने कह रहे हो, मगर राजनीति को समझने वाले लोग इसे एक बड़ी रणनीति का हिस्सा मान रहे ।दरअसल कांग्रेस ने आशा दौरे को टिकट देकर न केवल जजपाल सिंह जज्जी को घेरने की कोशिश की है बल्कि इस टिकिट से कोंग्रेस ने ज्योतिरादित्य सिंधिया को टारगेट करने का प्लान तय किया है।

वायरल ऑडियो के मुद्दे को हवा देगी कांग्रेस

कुछ दिन पहले ज्योतिरादित्य सिंधिया एवं अनीता जैन का एक ऑडियो वायरल हुआ था। जिसमें 2018 के चुनाव में कांग्रेस से आशा को टिकट ना मिल पाने के बाद दौरान अनीता जैन एवं ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीच की बातचीत थी।इस ऑडियो में अनिता जैन (Anta Jain) ने सिंधिया के पीए पाराशर को 50 लाख रु देने की बात कही थी। इस ऑडियो को वायरल होने के बाद खूब चर्चा हुई थी। कांग्रेस भ्रष्टाचार करने लेकर टिकिट देने के मामले को लेकर ज्योतिरादित्य सिंधिया को चुनाव में टारगेट करेगी क्योंकि इस मुद्दे पर आज तक ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं। अशोकनगर में कांग्रेस इस मुद्दे को चुनाव में हवा देगी ।

जातिय समीकरण साधने कांग्रेस ने उतारा आशा दोहरे को
जातीय समीकरण साधने की कोशिश जजपाल सिंह जज्जी के खिलाफ आशा दौहरे को चुनाव मैदान में उतारकर कांग्रेस ने जातीय समीकरण साधने की कोशिश की है ।इस विधानसभा में ब्राह्मण एवं जैन लगभग बराबर की एवँ प्रभावी संख्या में वोटर है। और यह दोनों ही सामान्यता एक साथ नहीं होते ।ऐसे में आशा जैन परिवार की बहू है इसलिए उन्हें जैन समाज का समर्थन तो हासिल हो ही सकता है साथ ही भाजपा में जाने से जज्जी से नाराज मुसलमान भी इस नाम पर सहमत हो सकते है। इसके अलावा आशा दौहरे दलित परिवार की बेटी है। ऐसे में कांग्रेस का मानना है कि दलितों के वोट बैंक में इस बहाने पैठ बनाई जा सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here