खुशखबरी: कोरोना संकटकाल के बीच मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का बड़ा ऐलान

शिवराज सिंह चौहान

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। कोरोना संकटकाल के बीच और दमोह उपचुनाव (Damoh By-election) से ठीक एक दिन पहले मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chauhan) ने मेडिकल कॉलेज छात्रों (College Student) के लिए बड़ा ऐलान किया है।  मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि छतरपुर (Chhatarpur) में मेडिकल कॉलेज (Medical College )भी शीघ्र खुलेगा।हालांकि बजट सत्र 2021-22 में वित्त मंत्री जगदीश देवड़ा इसकी घोषणा पहले ही कर चुके है।

यह भी पढ़े.. सीएम शिवराज सिंह चौहान ने परीक्षाओं और शासकीय कर्मचारियों को लेकर दिए ये निर्देश

दरअसल, आज मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने अपने निवास से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से ‘नर्मदा अपना हॉस्पिटल” छतरपुर का वर्चुअल लोकार्पण किया। इस मौके पर कहा है कि ‘नर्मदा अपना हॉस्पिटल’ कोरोना संकट के इस दौर में जनता को गुणवत्तापूर्ण तथा बेहतर सेवाएँ कम खर्च पर उपलब्ध कराएगा।’नर्मदा अपना हॉस्पिटल” में बिस्तरों की संख्या 58 है, जिसमें 18 आई.सी.यू. बेड्स हैं। अस्पताल में सी.टी. स्केन, सोनोग्राफी सहित आपातकालीन सभी सेवाएँ उपलब्ध हैं।

यह भी पढ़े.. विधायक निधि: कोरोना संकटकाल में मप्र सरकार का बड़ा फैसला, कलेक्टरों को निर्देश जारी

वही शिवराज सिंह चौहान ने ऐलान करते हुए कहा कि छतरपुर में मेडिकल कॉलेज भी शीघ्र खुलेगा। इसे पूर्व में सरकार द्वारा स्वीकृत किया गया था। स्वास्थ्य के क्षेत्र में शासकीय अस्तपतालों के साथ ही निजी अस्पतालों का योगदान भी अत्यंत महत्वपूर्ण है। संकट की इस घड़ी में जनता को अच्छी से अच्छी स्वास्थ्य सुविधाएँ उपलब्ध कराएँ।  इस अवसर पर नर्मदा हेल्थ ग्रुप के निदेशक डॉ. राजेश शर्मा उपस्थित थे।

गौरतलब है कि अप्रैल में बजट सत्र के दौरान शिवराज सरकार (Shivraj Government) द्वारा घोषणा की गई थी कि छतरपुर जिले में मेडिकल कॉलेज खोला जाएगा। इस पर जमकर विवाद भी हुआ था और बीजेपी कांग्रेस के बीच श्रेय लेने की होड़ सी मच गई थी। एक तरफ जहां कांग्रेस ने इसका पूरा श्रेय छतरपुर से कांग्रेस विधायक आलोक चतुर्वेदी (Congress MLA Alok Chaturvedi) दिया था तो वही BJP का कहना था कि 2018 में जिला प्रशासन की तरफ से मेडिकल कॉलेज के लिए जो जमीन आवंटित की गई थी, सीएम शिवराज सिंह चौहान ने उसका भूमिपूजन कर, 300 करोड़ रुपए की प्रशासनिक स्वीकृति भी दे दी थी इसलिए इसका श्रेय मुख्यमंत्री को जाता है।