सीएम शिवराज सिंह चौहान बोले- पॉजिटिविटी रेट 5.4%, तीसरी वेव के लिए मप्र को तैयार करना

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण की स्थिति में लगातार सुधार हो रहा है। पॉजिटिविटी रेट 5.4 प्रतिशत हो गया है।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में तेजी से कम होते संक्रमण (Coronavirus) और रिकवरी रेट के बढ़ने के बाद सीएम शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) का बयान सामने आया है। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण की स्थिति में लगातार सुधार हो रहा है। पॉजिटिविटी रेट 5.4 प्रतिशत हो गया है। मरीजों की संख्या लगातार कम हो रही है और स्वस्थ होकर घर जाने वाले व्यक्तियों की संख्या लगातार बढ़ रही है।कोरोना के प्रकरण न्यूनतम होने के बाद भी प्रदेश में ‘योग से निरोग’ कार्यक्रम जारी रहेगा, क्योंकि हमें प्रदेशवासियों को कोरोना की तीसरी वेव के लिए तैयार करना है।

यह भी पढ़े.. इंदौर कलेक्टर के आदेश पर बिफरे कैलाश विजयवर्गीय, बोले- पुनर्विचार होना ही चाहिए

दरअसल, आज सीएम शिवराज सिंह चौहान ‘योग से निरोग’ कार्यक्रम के अंतर्गत होम आइसोलेशन (Home isolation) प्रतिभागियों एवं योग प्रशिक्षकों से निवास से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग द्वारा संवाद कर रहे थे। सीएम ने कहा कि  रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने और व्यक्ति को स्वस्थ, सकारात्मक एवं ऊर्जावान बनाए रखने में योग बहुत प्रभावी है। मैं स्वयं कोरोना से प्रभावित हो गया था। चूंकि मैं कई वर्षों से योग कर रहा हूँ। अत: कोरोना का कोई घातक प्रभाव मुझ पर नहीं हुआ। हमारे परिवार के सभी सदस्य प्रतिदिन ध्यान और प्रणायाम अभ्यास करते हैं। मेरा यह व्यक्तिगत अनुभव है कि योग आत्म-विश्वास, सकारात्मकता और ऊर्जा बनाए रखने का प्रभावी माध्यम है। कोरोना के बाद आ रही ब्लैक फंगस, वाइट फंगस जैसी जटिलताओं से बचने में आयुर्वेदिक परंपराएँ, योग का अनुसरण सहायक सिद्ध हो सकता है।

यह भी पढ़े.. किसानों को बड़ी राहत, खाद को लेकर शिवराज सरकार ने बनाई नई व्यवस्था

गुरुदेव श्री श्री रविशंकर ने सीएम शिवराज सिंह चौहान की तारीफ करते हुए कहा कि सत्ता में रहते हुए प्रदेश के जन-जन से मामा का जो संबंध जोड़ा है वह उनका जनता के प्रति प्रेम और संवेदनशीलता का अनूठा उदाहरण है। योग विद्या जैसी गतिविधियों का राज्य के समर्थन से अधिक प्रभावी तरीके से संचालन संभव है। इस दिशा में मध्य प्रदेश द्वारा की गई पहल सराहनीय और प्रदेशवासियों के लिए कल्याणकारी है।कोरोना के इस तांडव में आत्म-बल और मनोबल को बनाए रखना आवश्यक है। मजबूत मन कमजोर शरीर को आगे ले जा सकता है इसके लिए योग और प्रणायाम से प्रभावी कोई रास्ता नहीं है। हमारी भोजन शैली व भोजन प्रक्रिया में रोग प्रतिरोधक तत्व हैं अत: परंपरागत भोजन, आचार-विचार, योग पद्धति निरोगी रहने का प्रामाणिक मार्ग है।