सीएम शिवराज सिंह बोले- क्राइसेस मैनेजमेंट ग्रुप और प्रशासन लेंगे कोरोना कर्फ्यू का फैसला

pension

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। सभी मंत्रियों को प्रभार जिले सौंपने के बाद सीएम शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) का बड़ा बयान सामने आया है। सीएम शिवराज सिंह ने कहा कि जिला स्तरीय क्राइसेस मैनेजमेंट ग्रुप के सदस्य स्थानीय प्रशासन के साथ मिलकर कोरोना कर्फ्यू (Corona Curfew) के संबंध में फैसला लेने के लिए अधिकृत किये गये हैं। इस कोरोना कर्फ्यू का स्वरूप स्थानीय स्तर पर ही निर्धारित किया जायेगा, जिसमें यह तय होगा कि किन-किन जरूरी कार्यों और गतिविधियों के लिए कितनी समयावधि के लिए आवश्यक छूट दी जाये। कोरोना कर्फ्यू जनता की ओर से स्वत: स्फूर्त भावना से प्रभावशील रहे।

यह भी पढ़े.. उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव के निर्देश-मप्र में समय सीमा में कराएं कॉलेज परीक्षाएं

सीएम शिवराज सिंह आज निवास कार्यालय में प्रदेश में कोरोना संक्रमण की वर्तमान स्थिति और जरूरी प्रबंधों की समीक्षा कर रहे थे।सीएम ने कहा है कि कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए जन- जागरण की गतिविधियाँ निरंतर संचालित की जायें। जिलों में कोरोना संक्रमण के दृष्टिगत समन्वय और समस्त व्यवस्थाओं के प्रबंधन के लिए मंत्रियों को जिलों की जिम्मेदारी सौंपी गई है। मंत्री अपने-अपने प्रभार के जिलों में जाकर और वर्चुअल रूप से कोरोना संक्रमण की जाँच, उपचार, रोगियों की देखभाल सुनिश्चित करें।

सीएम शिवराज सिंह ने कहा कि टीका उत्सव के लिए आवश्यक समन्वय, पात्र व्यक्तियों को प्रेरित करने और जन-जागरूकता अभियान के कार्य भी लगातार जारी रहें, यह मंत्रियों की जिम्मेदारी होगी। राजस्व मंत्री गोविंद सिंह राजपूत (Govind Singh Rajput)  अस्वस्थ हैं और गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा (Dr. Narottam Mishra) प्रदेश से बाहर हैं, अतः उन्हें अभी प्रभार नहीं दिया गया है। जिलों में संक्रमित रोगियों को स्वस्थ करने के लिए औषधियों और ऑक्सीजन की सभी जरूरतमंदों को आपूर्ति को सर्वोच्च प्राथमिकता दी गई है। मंत्रियों को जिलों में प्रारंभ किये गये CCC के सुचारू संचालन को भी सुनिश्चित करना है।

यह भी पढ़े.. सीएम शिवराज सिंह चौहान का बड़ा बयान-लॉकडाउन समाधान नहीं, इससे बेहतर तो…

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने बताया कि सेवा भारती एवं अन्य सामाजिक संगठन विभिन्न सेवा कार्यों के लिए आगे आ रहे हैं। कुछ संगठन आइसोलेशन केंद्र संचालित करने के भी इच्छुक हैं। ऐसी सेवाभावी संस्थाओं को चिकित्सक उपलब्ध करवाकर इस कार्य में सहयोग लेने पर विचार किया जा रहा है। कुछ स्थानों से कोरोना वारियर्स के साथ दुर्व्यवहार की खबरें आई हैं। मानवता की सेवा में लगे कोरोना वारियर्स के साथ गलत आचरण अनुचित है। ऐसे मामलों में सख्त कदम उठाये जा रहे हैं। विपक्षी दलों से भी संकट की घड़ी में सहयोग की आशा है। कोरोना वारियर्स का मनोबल बनाये रखना आवश्यक है।

वैक्सीनेशन का काम तेजी से जारी

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश में वैक्सीनेशन (Vaccination) कार्य को गति दी गई है। 4 दिवसीय विशेष अभियान 11 अप्रैल – महात्मा ज्योतिबा फुले जयंती से प्रारंभ हुआ है, जो 14 अप्रैल – डॉ. बीआर अम्बेडकर (Dr. Bhimrao Ambedkar ) जयंती तक चल रहा है। इसे टीका उत्सव का नाम दिया गया है। प्रदेश में अब तक करीब 60 लाख लोग वैक्सीन लगवा चुके हैं। प्रदेश में 60 वर्ष से अधिक आयु के करीब 25 लाख और 45 वर्ष से 59 वर्ष के मध्य की आयु के करीब 20 लाख लोग वैक्सीन लगवा चुके हैं। वैक्सीन लगवाने वाले स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं और फ्रंट लाइन कार्यकर्ताओं की संख्या लगभग 15 लाख है।