सीएम शिवराज सिंह का फैसला-18+ का 5 मई से वैक्सीनेशन, पत्रकारों को जिलेवार लगेगी

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश को कोविशील्ड (Covishield) की 4 करोड़ 76 लाख  और कोवैक्सीन (Covaxine) की 52 लाख 25 हज़ार डोज प्राप्त होंगे।

सीएम शिवराज सिंह चौहान

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में कोरोना (Coronavirus) के बढ़ते आंकड़ों को देखते हुए आज हुई हाईलेवल मीटिंग में सीएम शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chauhan) ने कई बड़े फैसले लिए है। इसके तहत सभी अधिमान्यता और गैर अधिमान्यता प्राप्त पत्रकारों (Jounalist) को प्राथमिकता के आधार पर फ्री वैक्सीन लगाई जाएगी। पत्रकारों को  जिलेवार विशेष शिविर लगाकर वैक्सीन लगाई जाएगी।18 से 45 वर्ष के व्यक्तियों के नि:शुल्क वैक्सीनेशन का कार्य पाँच मई से प्रारम्भ होगा। वैक्सीनेशन के लिए 5 करोड़ 29 लाख डोजेस की संभावित आवश्यकता के दृष्टिगत दोनों वैक्सीन निर्माताओं को क्रय आदेश जारी किए गए हैं।

यह भी पढ़े.. कोरोना संकटकाल में मोदी सरकार के कई बड़े फैसले, नीट-पीजी परीक्षा 4 महीने के लिए स्थगित

वही सीएम शिवराज सिंह चौहान ने बताया कि प्रदेश में 18 से लेकर 44 वर्ष की आयु तक के लोगो का वैक्सीनेशन कार्यक्रम 5 मई से शुरू किया जा रहा है।हालांकि 1 दिन पहले ही  चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने भी 48 घंटे के अंदर 18+ को वैक्सीनेशन की शुुरुआत करने का दावा किया था।  इसके लिए 5 करोड़ 19 लाख डोज की आवश्यकता होगी । दो कंपनी कोविशील्ड और कोवैक्सीन को आर्डर दिया गया है। वैक्सीन की उपलब्धता के आधार पर कार्यक्रम चलता रहेगा वैक्सीनेशन के लिए डोजेस की जल्द से जल्द आपूर्ति के लिए आयात की संभावनाओं का भी परीक्षण किया जा रहा है। 45 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्तियों का वैक्सीनेशन कार्य यथावत जारी रहेगा।

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश को कोविशील्ड (Covishield) की 4 करोड़ 76 लाख  और कोवैक्सीन (Covaxine) की 52 लाख 25 हज़ार डोज प्राप्त होंगे। 5 मई से 15 मई तक कुल 1480 सत्रों में 1 लाख 48 हज़ार डोज का कार्यक्रम तय किया गया है। 5 और 6 मई को 104 सत्रों में 10,400 डोज, 8 और 10 मई को 416 सत्रों में 41,600 डोज और 12, 13 और 15 मई को 960 सत्रों में 96,000 डोज लगाया जाएगा।

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि ग्रामीण अंचल में होम आइसोलेशन व्यवस्था की प्रभावी निगरानी सुनिश्चित की जाए।  घर पर आइसोलेशन के लिए आवश्यक व्यवस्थाओं का अभाव होने पर संक्रमित व्यक्ति को कोविड केयर सेंटर में स्थान्तरित किया जाए। आवश्यकता होने पर वाहन की व्यवस्था भी की जा सकती है। उन्होंने स्वास्थ्य संबंधी जाँचे निर्धारित दरों पर हों, इस व्यवस्था को कड़ाई के साथ लागू करने की जरूरत बताई।निर्धारित दर से अधिक मूल्य के मामलों में कठोर कार्यवाही की जाए।

 

यह भी पढ़े.. MP Weather Alert : मप्र के इन जिलों में बारिश के आसार, तेज हवाओं के साथ बिजली की संभावना

इससे पहले सीएम शिवराज सिंह चौहान ने ऐलान किया था कि प्रदेश के अधिमान्यता प्राप्त पत्रकार फ्रंट लाइन वर्कर की श्रेणी में शामिल होंगे। कोरोना संक्रमण में वास्तविकता को जन-जन तक पहुँचाने वाले पत्रकार भी वास्तव में कोरोना वॉरियर्स हैं। अधिमान्य पत्रकारों को भी फ्रंट लाइन वर्कर्स को दी जाने वाली सभी सुविधाओं का लाभ दिया जायेगा।