कोरोना के बढ़ते आंकड़ों के बाद उठी मप्र विधानसभा का सत्र बुलाने की मांग

मप्र विधानसभा

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में तेजी से बढ़ते कोरोना (Coronavirus) के आंकड़ों के बाद मप्र विधानसभा (MP Assembly) सत्र बुलाने की मांग उठी है। वरिष्ठ कांग्रेस विधायक (Congress MLA) और पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा (Former Minister Sajjan Singh Verma) ने इस संबंध में मप्र विधानसभा के अध्यक्ष गिरिश गौतम से विशेष सत्र बुलाया की मांग की है। इसमें सभी वरिष्ठ विधायक इस महामारी पर विचार करें और कुछ ठोस सॉल्यूशन लेकर आएं। प्रदेश की जनता की जान की रक्षा के लिए विधानसभा का हर सदस्य जिम्मेदार है।

यह भी पढ़े.. चुनाव 2021: कांग्रेस उम्मीदवार का कोरोना से निधन, पार्टी में शोक लहर

मप्र विधानसभा अध्यक्ष को लिखे इस पत्र में विधायक सज्जन सिंह वर्मा ने शिवराज सरकार (Shivraj Government) को कोरोना संकट काल में फेलियर बताते हुए कहा है कि प्रदेश में कोरोना संकट की वर्तमान परिस्थितियां बद से बदतर हो गई हैं। ऐसी स्थिति में इसके नियंत्रण के लिए सर्व सम्मति से कोई ठोस निर्णय निकाला जाना अत्यंत आवश्यक है। पिछले 1 साल में शिवराज सरकार ने कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर को रोकने के लिए कोई योजना नहीं बनाई ना ही कोई ठोस काम किए। सत्ता हथियाने के बाद 1 साल में भी कोई सुधार नहीं हुआ और स्थिति बद से बदतर होती जा रही है।

सज्जन वर्मा ने कोविड समस्या के समाधान तथा संक्रमण से निपटने के लिए होने वाले किसी भी निर्णय में विपक्षी दलों के वरिष्ठ नेता, विधायकों तथा अन्य जनप्रतिनिधियों को कहीं भी शामिल नहीं किए जाने का भी मुद्दा उठाया और कहा कि आज भी सभी फैसले BJP के नेता मिलकर ले रहे हैं। जबकि सभी जनप्रतिनिधियों को शामिल कर निर्णय होने चाहिए।वर्मा ने कोरोना संक्रमण से प्रदेश की रक्षा के लिए 25% (सत्ता पक्ष तथा विपक्ष) के वरिष्ठ विधायकों के साथ विधानसभा सत्र तुरंत बुलाए जाने की मांग विधानसभा अध्यक्ष तथा मुख्यमंत्री से की।

यह भी पढ़े.. परीक्षा से पहले शासकीय कॉलेजों को मिले यह निर्देश, राज्यपाल ने कहा-असमंजस की स्थिति ना रहें

वही आरोप लगाते हुए कहा कि दमोह में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chauhan) लोगों को घरों से बाहर निकलकर प्रचार प्रसार करने तथा चुनावों में शामिल होने का आव्हान कर रहे हैं जबकि दमोह (Damoh By-election) से लगे हटा में लोगों ने स्वयं ही लॉकडाउन (Lockdown 20210 कर कोरोना की चेन तोड़ने का अनुपम उदाहरण दिया जबकि मुख्यमंत्री के गैर जिम्मेदाराना ट्वीट द्वारा कोरोना को फैलने का नया रास्ता दिया।

 

मप्र विधानसभा