सत्ता बदलते ही खुलने लगी शिव’राज’ की फाइलें, जांच के नाम पर डरा रहे मंत्री

file-is-opening-after-change-government-in-mp-minister-afraid-of-name-of-inquiry-

भोपाल। प्रदेश में जहां सत्ता को लेकर खींचतान मची है, वहीं कमलनाथ सरकार के मंत्री पूर्व सरकार के कार्यकाल में हुए घोटालों की जांच कराने के लिए आए दिन ऐलान कर रहे हैं। खास बात यह है कि अभी तक एक भी मंत्री ने किसी भी घोटाले की जांच शुरू नहीं कराई है। सिर्फ मुख्यमंत्री कलमनाथ के निर्देश पर माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विवि में हुई गड़बडिय़ों की जांच के लिए कमेटी गठित की गई है। 

प्रदेश के गृह मंत्री बाला बच्चन ने मंदसौर गोलीकांड से लेकर व्यापमं, पेटलावद जैसे मामलों की जांच की बात कही है, लेकिन वे गृहमंत्री के रूप में एक भी घोटाले की जांच के आदेश नहीं दे पाए हैं। इसी तरह सिंहस्थ, नर्मदा यात्रा, पौधरोपण, सांस्कृतिक आयोजन, भांवातर योजना, ई-टेेंडर में हुए घोटाले की जांच के लिए मंत्री ऐलान कर चुके हैं। अभी तक किसी भी मंत्री ने जांच के आदेश नहीं दिए हैं। 

इन मंत्रियों ने किया जांच का ऐलान 

गृहमंत्री बाला बच्चन ने मंदसौर गोलीकांड की फिर से जांच कराने का ऐलान किया है।  साथ ही उन्होंने पेटलावद जैसे हादसों की जांच की बात भी कही थी। वे व्यापमं घोटाले की जांच कराने के पक्ष में है। मुख्यमंत्री कमलनाथ खुद ई-टेंडर घोटाले की जांच का ऐलान कर चुके हैं, लेकिन अभी तक ई-टेंडर घोटाले में एफआईआर तक नहीं हुई है। दो दिन पहले ही मंत्री जयवर्धन सिंह, जीतू पटवारी एवं सुरेन्द्र सिंह हनी ने उज्जैन प्रवास के दौरान सिंहस्थ घोटाले की जांच की बात मीडिया में कही। 

वन मंत्री उमंग सिंघार पिछले सालों में वन विभाग द्वारा कराए गए पौधरोपण की जांच कराने के पक्ष में है। वे नर्मदा किनारे कराए गए पौधरोपण की जांच कराना चाहते हैं। संस्कृति मंत्री विजयलक्ष्मी साधौ भी पिछली सरकार द्वारा कराए गए आयोजनों की जांच कराने एवं विभाग में की गई नियुक्तियों की जांच के पक्ष में हैं।  पदभार ग्रहण करते समय कहा था कि पिछले 15 सालों में काफी कुछ बदला है, इसमें सुधार लाना है। सहकारिता मंत्री डॉ गोविंद सिंह ने राजधानी की रोहित गृह निर्माण समिति की जांच कराने का ऐलान किया था। वहीं लोनिवि मंत्री सज्जन सिंह वर्मा भी चुनाव से पहले जारी किए गए ई-टेंडरों की जांच का ऐलान कर चुके हैं। खास बात यह है कि किसी भी मंत्री ने जांच के आदेश नहीं दिए हैं। 

अभी घोटालों की लिस्ट बना रहे हैं। जन आयोग का गठन होगा। जल्द ही जनआयोग बनेगा, फिर जांच शुरू हो जाएगी। 

शोभा ओझा, अध्यक्ष, मप्र कांग्रेस मीडिया विभाग

कांग्रेस सरकार एजेंडे पर काम नहीं कर रही है। उन्होंने जनता को जो वचन दिए वे निभाएं। भाजपा कार्यकर्ताओं पर दबाव बनाने कोशिश कर रहे हैं। 

दीपक विजयवर्गीय, मुख्य प्रवक्ता, मप्र भाजपा